सत्यमेव .....

हास्य व्यंग्य एक्सप्रेस

29 Posts

624 comments

kmmishra


Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.

Sort by:

क्रांतिकारी ! बहुत ही क्रांतिकारी !

Posted On: 23 Mar, 2014  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

हास्य व्यंग में

0 Comment

सेकुलरिज़्म का गड्ढा

Posted On: 18 Mar, 2014  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

हास्य व्यंग में

0 Comment

गांधीजी को पत्र

Posted On: 25 Feb, 2014  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

हास्य व्यंग में

1 Comment

“आप” (केजरीवाल) का रामबाण नुस्खा ।

Posted On: 22 Feb, 2014  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

हास्य व्यंग में

4 Comments

शैतान से संवाद (सन्दर्भ केजरीवाल)

Posted On: 19 Feb, 2014  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

हास्य व्यंग में

5 Comments

केजरीवाल का रायता

Posted On: 19 Feb, 2014  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

हास्य व्यंग में

0 Comment

घोटालों की लंबी लिस्ट

Posted On: 29 Apr, 2011  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (5 votes, average: 4.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

में

44 Comments

संत और सेठ – Holi Contest.

Posted On: 30 Mar, 2011  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (4 votes, average: 3.75 out of 5)
Loading ... Loading ...

में

38 Comments

धन्यवाद जागरण जंक्शन

Posted On: 8 Jan, 2011  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (3 votes, average: 3.67 out of 5)
Loading ... Loading ...

में

34 Comments

कुछ मीठा हो जाये

Posted On: 12 Dec, 2010  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

में

14 Comments

धर्मनिरपेक्षता का असंवैधानिक पक्ष

Posted On: 11 Nov, 2010  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (7 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

में

41 Comments

जग बौराना : शहीदों के कफनखसोट

Posted On: 31 Oct, 2010  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (4 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

में

19 Comments

जग बौराना : विधवा रोवे सेर सेर…….

Posted On: 29 Oct, 2010  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (7 votes, average: 4.57 out of 5)
Loading ... Loading ...

में

12 Comments

जग बौराना: लिव इन रिलेशन के सदके ।

Posted On: 27 Oct, 2010  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

में

18 Comments

Page 1 of 212»

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

भाई अजय कुमार जी केजरीवाल जी से बहुत से प्रश्न पूछने हैं. कुछ नीचे हैं. 1. Who gave the Bungalow in Connaught Place for Rs 1/month as rent to Aam Aadmi Party? Why his/her name hasn't been disclosed? 2. Binayak Sen, a member of Planning Commission, drafts policies of Aam Aadmi Party. Then, what is the connection between AAP and Congress? 3. AK says, he served 5 years as an honest IRS officers, but no transfers happened ever. Whereas, in the same system people like Ashok Khemka gets transferred twice a year for his honesty. Why? 4. Admiral Ramdas, who is a part of AAP's internal Lokpal, was against Nuclear Tests held in Pokharan. He even vowed to fast in front of 7 RCR against the tests. In a reaction to this, Dr. APJ Abdul Kalam had said, "Ramdas can sit on a fast in Islamabad because Pakistan was planning to conduct nuclear tests." (Ref: Ignited Minds by APJ Abdul Kalam) Why did AK take persons like him in his party? 5. Santosh Koli, closest aide of Arvind Kejriwal, was killed in a hit and run case. Should not he pursue this issue or demand probe? 6. AK blames, Congress and BJP to be like mafias. Why doesn't he come and prove his statement? 7. Why has Aam Aadmi Party given tickets to some rejected workers of both BJP and Congress in Delhi? Is popularity the main factor behind selection? 8. Donation for the movement got collected all over the nation, still why is it being used for a political party that exists only in Delhi? 9. Why is the supporters of IAC receive mails from AAP? Who hacked the IAC's database? 10. Kejriwal's NGO was supported by Infosys of which Nandan Nilekani is a co-founder and also the chief of Aadhar Project and moreover, enjoys the rank of a cabinet minister. It is well-known for Nilekani to contest from South Bangalore Loksabha on a Congress's ticket. Isn't it Congress-AAP bhai-bhai? 11. A few months ago, Yogendra Yadav addressed a meeting organised by Rajiv Gandhi foundation. This meeting was chaired by Sonia Gandhi and here Yogendra Yadav spoke passionately about creating India of Nehru's dreams. Now does he not want to do the same in AAP? 12. Closeness of Sanjiv Bhat and Prashant Bhushan is well-known. They organised a workshop together against Modi's govt in IFI (Islamic Foundation of India). Also, Sanjiv Bhat's wife contested against Narendra Modi with a Congress's ticket. Does it not mean Congress-AAP are different faces of the same coin? 13. Arvind's NGO received huge funds from Tata Trust. He exposed Ambani brothers, but why is he silent against Tata's role in 2G scam? 14. Why have publications like Indian Express, Tehelka, Kafila, Open, Caravan, Hindustan Times, NDTV who gave negative coverage to the movement and then again when the party was formed have suddenly started praising Arvind Kejriwal? Is Congress using its clout in media in creating an illusion that Arvind Kejriwal is a major force in Delhi elections to split opposition's votes? 15. Sanjay Kumar, the associate and deputy of Yogendra Yadav, did not give a single seat to Aam Aadmi Party in his own survey (Divided They Fail: 7 October 2013, Indian Express). Whose survey to believe, Sanjay Kumar or Yogendra Yadav? 16. What is the source of income of Manish Sisodia, Gopal Rai, Sanjay Singh and Arvind Kejriwal? Is it the donations from common people? 17. Some journalists say that Arvind had several secret meetings with Ahmed Patel (political adviser of Sonia Gandhi) and Pawan Khera (political advisor of Sheila Dikshit). What is the deal? What did they talk about? 18. Shazia Ilmi, Prashant Bhushan and Yogendra Yadav openly supported the controversial communal violence bill. What is Aam Aadmi Party's stand on the same?Is it still their personal views like Prashant Bhushant's view on Kashmir's plebiscite? 19. Prashant Bhushan and Co. have filed several PILs for Gujarat riots. Have they filed a single PIL in court regarding the recent riots in Uttar Pradesh or in West Bengal. Is only Gujarat on the target? 20. In March 2012, Kejriwal and Prashant Bhushan were preparing a list of candidates for Himachal Assembly elections. Then, why this drama of fasting in July & saying that they were left with no other option but to form a party when it got decided many months before? Anna himself scolded Arvind, Prashant and co. when he came to know their plans to contest in Himachal elections and they had to drop their plans. 21. After elections were announced in Delhi, most cases of violation of Model Code of Conduct have been registered against Aam Aadmi Party - 61 against AAP, 54 against BJP, 52 against Congress and 2 against BSP as per Election Commission of Delhi. Are you cleaning the system or damaging it further? 22. Arvind was against High Command culture in politics. The same culture and same personality cult is there in AAP. Why posters of AAP only has pictures of Arvind Kejriwal? 23. How can Arvind declare himelf the next CM of Delhi. That call has to be taken by MLAs after elections! AAM Aadmi Party is nothing but Arvind-Arvind Party being run as one man's business? 24. Arvind says he has sacrificed by leaving IRS because the system is rotten. Why is his wife Sunita still a part of the rotten system and enjoys the perks and privileges of that same system? Why doesn't she also quit IRS and contest elections in Delhi? 25. Arvind lives in the same house alloted to his IRS wife in Koshambi by Govt. This is pure double-speak. Arvind and his family enjoy all perks given by the govt? 26. Why in all of Aam Aadmi Party there is nobody bigger in stature than Arvind Kejriwal? Why people like Kiran Bedi, Fali S Nariman, Santosh Hegde, Rajinder Singh, P V Rajagopal, Medha Patkar, Devinder Sharma, Arvind Gaur, Archbishop of Delhi, Syed Mahmood Madani are not part of the party? 27. Is it a fact that in your entire service of 20 years in Indian Revenue Service, you never served outside Delhi, even though the norms of the service are that all IRS officers serve a posting only for 3 years in a place’? 28. Is it a fact that even your wife, who also is an Indian Revenue Service Officer, has never served outside Delhi? 29. Is it a fact that any serving officer who goes on a study leave for two years with full pay, has to submit a full report of his study to GOI? 30. Is it a fact that you didn’t submit a full report, but only an interim report to G0I with a promise to submit a full report later, which you never did? 31. Isn’t it a fact that the Service Rules provide that an officer who goes on a study leave has to compulsorily serve GOI for 3 years ? 32. Is it a fact that you went on an unsanctioned leave, without permission, after serving for only one and a half year, post the study leave? 33. Is it a fact that you were transferred to Chandigarh once, but you never joined? 34. Is it a fact that you then sought voluntary retirement from service and even without it being approved, you absented from your office? 35. As a serving officer of IRS did you take permission of GOl to form your NG0? 36. Is it a fact that the NGO Kabir, with whom you are closely associated. received US$ 172000 in 2005, $ 197000 in 2008 from Ford Foundation? 37. Was this foreign money used to organize seminars, advocacy discussions, programmes, social media campaigns and publicity material related to the issue of corruption? 38. Being still in service did you take permission from your Ministry to receive these foreign and private funds in your NGO ? 39. Why there are no details of individual donors and Corporate donors on any website of your NGOs? 40. Is it a fact that you took a cheque of Rs. 2 Crores to Anna and he refused to accept as he felt collection was much more? 41. A senior member of your Core Committee has alleged that you have misappropriated funds to the tune of 20 Crores. Why you have not responded to this charge? 42. We would also like to know your relationship with US based NGO Avaaz, which has been funding Civil Disobedience Movements in Libya Tunisia Egypt and Syria’? What is the logistical and other support your anti-corruption movement received from Avaaz ? 43. Is it a fact that you had announced to lead a Tehrir Square like movement in Delhi? 44. Is it a fact that you have diverted the funds which you received in the name of India Against Corruption to your NGO Parivartan/Public Cause Research Foundation ? 45. Why have you collected funds for India Against Corruption in Parivartan/ PCRF? 46. You did connect a disconnected electric connection on non-payment of dues, which resulted in a criminal offence against the consumer. As a responsible citizen of the country, don’t you think it was a criminal act to do so?

के द्वारा: kmmishra kmmishra

के द्वारा: kmmishra kmmishra

के द्वारा: s.p. singh s.p. singh

के द्वारा: abhishek shukla abhishek shukla

जागरण जंक्शन एडमिन को पत्र. श्रीमान जी को सादर नमस्कार. मैं इस मंच का एक पुराना ब्लॉगर हूँ. और तकरीबन ३ साल बाद फिर इस मंच पर आया हूँ....किन्ही व्यक्तिगत कारणों से मैंने सार्वजनिक मंचों पर लिखना बंद किया था..........एक बहुत पुराने साहित्यकार और पत्रकार श्री नरेश मिश्र जिनकी आयु अब ८० वर्ष है, मैं उनके लेख भी अपने ब्लॉग पर डालता रहा था...मैंने ब्लॉग्गिंग बंद की तो उनके लेख भी नेट पर नहीं आये. हालांकि हर दिन उनके लिखे नाटक भारत में किसी न किसी रेडियो स्टेशन से प्रसारित होते हैं. वो आज भी ८० वर्ष की अवस्था में साहित्य जगत, टीवी., पत्रकारिता को अपना योगदान देते रहते हैं..................उनके कहने पर मैंने कई प्रयास किये जागरण जंकशन पर उनका ब्लॉग रजिस्टर कर ने के लेकिन पता नहीं क्या टेक्निकल फाल्ट है की ब्लॉग रजिस्टर नहीं हो पा रही है. हार कर मैंने अपने ही ब्लॉग पर उनके लेख फिर प्रकाशित करना शुरू किया है......उनका कहना है की हो सकता है की २०१४ का चुनाव उनके जीवन का आखिरी चुनाव हो और इस चुनाव में उनका कुछ योगदान होना चाहिए. सो उनके लिए मैं फिर से ब्लॉग्गिंग में सक्रिय हुआ........ आपसे से विनम्र निवेदन है (जग बौराना) नाम से उनका ब्लॉग रजिस्टर करने में मेरी मदद करें. (आपको बताऊँ की व्यंग्य कालम लेखन में हम जानते हैं की शरद जोशी जी ने (प्रतिदिन) कालम कई वर्ष लिखा था. लेकिन नरेश जी ने अमृत प्रभात दैनिक पत्र में जग बौराना कालम ७ साल तक सप्ताह में ६ दिन लगातार लिखा है...जोशी जी से भी ज्यादा.............और उनके लिखे प्रहसन (मुंशी इतवारी लाल) को २१ साल तक आकाशवाणी के हवा महल प्रोग्राम में श्रोताओं का प्यार मिला .............. और हो सके तो उनके लेखों को फीचर भी करिए ताकि वो अधिक से अधिक लोगों तक पहुंचे. धन्यवाद्.

के द्वारा: kmmishra kmmishra

के द्वारा:

के द्वारा:

के द्वारा:

के द्वारा:

के द्वारा:

के द्वारा:

के द्वारा:

के द्वारा:

के द्वारा:

आपके समक्ष घोटाला वर्णमाला प्रस्तुत कर रहा हूँ.. आशा है की आपको पसंद आयेगी,, और उम्मीद करता हूँ की आप इससे अपनें बच्चों को बचानें का पूरा प्रयास करेंगे... "ए" से आदर्श सोसायटी घोटाला, "बी" से बोफोर्स घोटाला, "सी" से चारा घोटाला, "डी" से डी डी ए/ दिनेश डालमिया स्टॉक घोटाला, "इ" से एनरोन घोटाला, "ऍफ़" से फर्जी पासपोर्ट घोटाला, "ग(जी)" से गुलाबी चना घोटाला, "एच" से हथियार/ हवाला/हसन अली खान टेक्स घोटाला. बस.. बस... नहीं बोलिये भाईसाहब. आज तो मै पूरी ए, बी,सी, डी.. सुनाके ही रहूँगा. ठीक है... "आई" से आई पी एल घोटाला, "जे" से जगुआर/ जीप घोटाला, "के" से कॉमन वेअल्थ गेम्स /केतन पारीख सिक्यूरिटी घोटाला , "एल" से लोटरी / एल आई सी घोटाला, "एम्" से मनरेगा/ मधु कोड़ा माइन घोटाला, "एन" से नागरवाला घोटाला, "ओ" से आयल/ ओरिसा माइन घोटाला, "पी" से पनडुब्बी/ पंजाब सिटी सेण्टर घोटाला, "क्यू" से कोटा परमिट घोटाला, "आर" से राशन/ राईस एक्सपोर्ट घोटाला, "एस" सत्यम/शेयर/सागौन प्लान्टेशन घोटाला, "टी" से तेलगी/टेलिकॉम/ टूजी स्पेक्ट्रम घोटाला, "यू" से यूरिया/ यू टी आए. घोटाला, "वी" से वीसा (कबूतरबाज़ी) घोटाला, "डब्लू" वेपन/ व्हीट घोटाला, "एक्स " एक्सेस बैंक घोटाला, "वाय" से यार्न घोटाला, "जेड" से ज़मीन घोटाला...

के द्वारा:

क्या सोनिया गाँधी सच में हिन्दुओ से नफरत करती है ? 1 - सोनिया जी ने विसेंट जार्ज को अपना निजी सचिव बनाया है जो ईसाई है ..विसेंट जार्ज के पास 1500 करोड़ कि संपत्ति है 2001 में सीबीआई ने उनके खिलाफ आय से अधिक संपत्ति रखने का मामला दर्ज किया उस वक्त सीबीआई ने विसेंट के 14 बैंक खातो को सील करते हुए कड़ी करवाई करने के संकेत दिए थे फिर सोनिया के इशारे पर मामले को दबा दिया गया .. मैंने सीबीआई को विसेंट जार्ज के मामले में 4 मेल किया था जिसमे सिर्फ एक का जबाब आया कि जार्ज के पास अमेरिका और दुसरे देशो से ए पैसे के स्रोत का पता लगाने के लिए अनुरोध पत्र भेज दिया गया है .. वह रे सीबीआई १० साल तक सिर्फ अनुरोध पत्र टाइप करने में लगा दिए !!! 2 - सोनिया ने अहमद पटेल को अपना राजनैतिक सचिव बनाया है जो मुस्लमान है और कट्टर सोच वाले मुस्लमान है .. 3 - सोनिया ने मनमोहन सिंह कि मर्जी के खिलाफ पीजे थोमस को cvc बनाया जो ईसाई है ..और सिर्फ सोनिया की पसंद से cvc बने .जिसके लिए भारतीय इतिहास में पहली बार किसी प्रधानमंत्री को माफ़ी मागनी पड़ी .. 4 - सोनिया जी ने अपनी एकमात्र पुत्री प्रियंका गाँधी की शादी एक ईसाई राबर्ट बढेरा से की .. 5 - अजित जोगी को छातिसगड़ का मुख्यमंत्री सिर्फ उनके ईसाई होने के कारण बनाया गया जबकि उस वक़्त कई कांग्रेसी नेता दबी जबान से इसका विरोध कर रहे थे .. अजित जोगी इतने काबिल मुख्यमंत्री साबित हुए की छातिसगड़ में कांग्रेस का नामोनिशान मिटा दिया .. अजित जोगी पर दिसम्बर 2003 से बिधायको को खरीदने का केस सीबीआई ने केस दर्ज किया है . सीबीआई ने पैसे के स्रोत को भी ढूड लिया तथा टेलीफोन पर अजित जोगी की आवाज की फोरेंसिक लैब ने प्रमडित किया इतने सुबूतो के बावजूद सीबीआई ने आजतक सोनिया के इशारे पर चार्जशीट फाइल नहीं किया .. 6 - जस्टिस ....... के जी बालकृष्णन को 3 जजों की बरिस्टता को दरकिनार करके सुप्रीम कोर्ट का चीफ जस्टिस बनाया गया जो की एक परिवर्तित ईसाई थे ... 7 - राजशेखर रेड्डी को आँध्रप्रदेश का मुख्यमंत्री बनने में उनका ईसाई होना और आँध्रप्रदेश में ईसाइयत को फ़ैलाने में उनका योगदान ही काम आया मैडम सोनिया ने उनको भी तमाम नेताओ को दरकिनार करने मुख्यमंत्री बना दिया .. 8 - मधु कोड़ा भी निर्दल होते हुए अपने ईसाई होने के कारण कांग्रेस के समर्थन से झारखण्ड के मुख्यमंत्री बने ... 9 - अभी केरल विधान सभा के चुनाव में कांग्रेस ने 92 % टिकट ईसाई और मुस्लिमो को दिया है 10 - जिस कांग्रेस में सोनिया की मर्जी के बिना कोई पे .......ब तक नहीं कर सकता वही दिग्विजय सिंह किसके इशारे पर 10 सालो से हिन्दू बिरोधी बयानबाजी करते है ये हम सब अछि तरह जानते है

के द्वारा:

प्रिय मिश्रा जी, पहले आपके सुंदर सुंदर व्यंग पढने को मिले ! आपने अच्छे लेखो से भी हमें सराबोर किया ! अब यह घोटालों का खुलासा करके अपने सबके सामने सच प्रस्तुत की है ! इसमें कोइ दो राय नहीं है की आज देश में इतना भ्रस्ताचार बढ़ गया है की सभी लोग इससे त्रस्त हो चुके है ! इसी लिए अन्ना हजारे का आन्दोलन सफल हुआ ! क्योंकि यह जन जन की व्यथा थी ! महात्मा गाँधी ने नमक आन्दोलन किया क्योंकि नमक हर एक को खाना होता है ! इसी प्रकार आज घोटालों के कारन हर आदमी परेशान है और इसका खत्म चाहता है ! परन्तु आप देख ही रहे है की सर्कार इस मामले में कितनी गंभीर है ! इस देश का तो भगवन ही मालिक है ! सुंदर जानकारी के लिए धन्यवाद् राम कृष्ण खुराना

के द्वारा: R K KHURANA R K KHURANA

स्नेही श्री मिश्र जी, सादर अभिवादन, इस लिस्ट को पढने में जब इतना वक्त लग गया तो फिर इन घोताओं के सम्पूर्ण आंकलन कर दोषियों को सजा देने में कितना समय लगेगा (मैं ये अपनी तरफ से नहीं भारतीय न्यायलय के न्याधीशो की सोच बता रहा हूँ) आखिर एक प्रश्न ये भी तो उठेगा कि फैसला लटकाने पर कितना हिस्सा मेरा होगा. घोताओं की इस लिस्ट को यहाँ तक लाने के लिए आपका धन्यवाद! आपकी इस खोजी प्रवृत्ति के तो हम पहले से ही कायल हैं. लाल रंग से लिखी गई ये लिस्ट लगता है मानो मेहनतकश हिन्दुस्तानियों के खून से लिखी गई हैं और उनक खून से सनी रोटी खाने वाले नेता और उनके बच्चों की देह में उसी रक्त की लालिमा नजर आती है. देखिये काले हिन्दुस्तानियों में कैसे लाल गोरे पैदा किये हैं इन घोटालो ने! अच्छी खोज, आभार!

के द्वारा: chaatak chaatak

शुक्लजी नमस्कार । अभी कल जी न्यूज पर डा0 सुब्रमण्यम स्वामी जी का इंटरव्यू देख रहा था । उन्हें किसी पैनल में बैठाने की हिम्मत जल्दी कोयी न्यूज चैनल नहीं करता है । सिर्फ एक उस व्यक्ति के कारण 2 जी मामला आज इतना आगे बढ़ा है और ए राजा जेल में हैं । वह पी आई एल सुप्रीम कोर्ट में उन्हीं ने दाखिल की थी । आज देश सोनिया गांधी का काला इतिहास जानता है तो वह भी डा0 स्वामी की जनहित याचिकाओं के बदौलत ही हुआ है । आप यह तो जानते हैं कि जर्मनी की बैंक में कुछ 12-13 भारतीयों ने काला धन छिपाया हुआ था और जर्मनी ने इसकी सूचना भारत सरकार को दी और जब एक पी आई एल सुप्रीम कोर्ट में आयी तो उनके ऊपर मामला शुरू हुआ । लेकिन भारत सरकार उन 12-13 लोगों के नाम भी देश को नहीं बताना चाहती । कल डा0 स्वामी ने कहा कि उसमें एक चीफ मिनिस्टर के पुत्र हैं जिनके खाते में 50,000 करोड़ जमा था । अंदाजा लगाईये कि अभी हाल ही में 2 जी घोटाला हुआ है और एक चीफ मिनिस्टर के पुत्र और पूर्व केन्द्रीय मंत्री ए राजा आज कल तिहाड़ में हैं । यह सिर्फ मेरा अंदाजा है हो सकता है कि वो दूसरे किसी सीमए के प्रतापी प्रत्र हो सकते हैं

के द्वारा:

प्रिय मिश्रा जी सुप्रभात ,,,भाई मेने जब इसे देखा तो मुझे तो पहले यही समझ आया की किसी विभाग का बिल है क्योंकि यह तो बहुत छोटा है भाई देश की आबादी १अरब तीस करोड़ है तो उतनी ही कम्बी लिस्ट क्रम के अनुसार बनाने की होड़ लगी हुई है अब इतनी लम्बी लिस्ट में सामान भी अच्छा खासा होगा ''टैंक तोप गोला बारूद ''ताबूत'' ''जो शायद लिस्ट बढ़ाने वाले लोगों के भी काम आये बाद में '' भाई गिनीज बुक आफ वर्ड वालों को बुलाने जाता हूँ आज भारत का नाम सबसे ऊंचा हुआ है सबसे अमीर लोग रहते हैं एक बार चुनाव में कांग्रेश ने खा था की मे देश को पूरे एक साल तक अपने दम पर खिला सकता हूँ तब मेने सोचा की यह सोसे बाजी है लेकिन भाई यह तो पूरी तरह सत्य है चाहे तो पुरे विश्व को अपने दम पर खिला सकती हैं ''राम नाम सत्य हो इटली की महारानी का ''जय हो .........................अगर कुछ बचा है तो उसके लिए ही ......जय भारत

के द्वारा:

आदरणीय एस पी सिंह जी सादर प्रणाम । आपने कहा कि हम और आप तो बेबस देखते रहेंगे । मैं कहूंगा कि यह बेबसी कब तक रहेगी । आज मीडिया और विपक्ष की ही ताकत थी जो अशोक चव्हाण, कलमाडी और ए राजा को जाना पड़ा । सौभाग्य से हम भारतवासियों के हाथ ब्लागिंग जैसा धारदार हथियार लगा है । हमें आरटीआई और ब्लागिंग को अपना हथियार बना कर जनता क्या सोचती, चाहती है और मूर्ख नहीं है इन नेताओं को बताना होगा । . अनु0 14 समता के मूलाधिकार के बारे में चर्चा करना चाहता हूं लेकिन जब तक इसे विस्तार से नहीं लिखूंगा प्रयास निरर्थक हो जायेगा । इसे कम शब्दों में कहना मुश्किल है । जैसा कि आपने कहा कि फिर ये शब्द ”धर्मनिरपेक्षता और समाजवाद“ कैसे संविधान में हैं तो उसके बारे मे मैंने संविधान के 42वें और 44 वें संशोधन के बारे लिखा है । . अगर कांग्रेस भ्रष्टाचार की गंगोत्री है तो दूसरी पार्टियां भी कम नहीं हैं । सोनिया गांधी के बारे मे और जानकारी लेने के लिये सुरेश जी का नया लेख- "भाजपा,संघ के मुकाबले डॉ स्वामी अधिक हिम्मतवाले हैं" देखिये । सादर आपका

के द्वारा: kmmishra kmmishra

आदरणीय मिश्र जी, आपका लेख बहुत ही सुन्दर, तथ्यों से परिपूर्ण, ज्ञानवर्धक, एवं कानून की बारीकियों से भरा है /परन्तु जब आपने यह लिखा -----आप देखें कि भारत में पिछले दो दशक में हुये चुनावों में बहुत सी अलग अलग विचारधारा की पार्टियां अपनी असफलता को छिपने के लिये और जनता के मत से विपरीत जाकर मात्र धर्मनिरपेक्षता की आड़ लेकर अपने सारे गुनाह छिपा लेती हैं और एक पार्टी के खिलाफ…जनता के मत के विपरीत जाकर सब एक हो कर खड़े जाते हैं । चाहे चुनाव में वे एक दूसरे के खिलाफ ही क्यों न खड़े हुये हों । यह साफ साफ जनता के मत के साथ बलात्कार है और लोकतंत्र के सिद्धांत का मजाक उड़ाना है । ------तो ऐसा लगा कि यह एक समीक्षक का लेख न होकर एक हारे हुए किसी मंत्री या किसी राजनितिक पार्टी का विचार हो ?दूसरा कथन यह कि-----" इस तरह हम देखते हैं कि इन दोनों शब्दों का भारतीय राजनीति में घोर दुरूपयोग किया जा रहा है जिससे कि राजनैतिक असमानता को अनैतिक और असंवैधानिक रूप से बढ़ावा मिल रहा है । यह दोनो ही शब्द अनु0 14 के तहत समता के मूलाधिकार का सरासर उल्लंघन करते हैं इसलिये इन्हें असंवैधानिक मानते हुये निरस्त कर देना चाहिये"------ इससे तो ऐसा ही प्रतीत होता है कि अगर कोई राजनितिक पार्टी अगर जोड़ तोड़ करने के बाद भी सत्ता में नहीं आती तो इसमें संविधान का क्या दोष , दोष तो संविधान के निर्माताओं का ही होना चाहिए, शायद यह इस लिए भी कि आज कि परिस्थिति का आकलन उस समय के राजनेताओं के विचार में नहीं आया होगा, वैसे भी जब से राजनीती एक व्यसाय बन गई है तब से सत्ता हथियाने के लिए केंद्र और प्रदेशों में क्या क्या हथकंडे अपनाए जाते है क्या किसी से छुपा है गणित यहाँ आकर फेल हो जाता जब गिनती का खेल शुरू होता है करोडो के वारे न्यारे हो जाते हैं न तो किसी को नैतिकता याद रहती है और न ही धर्मनिरपेक्षता कि याद आती है याद आती है तो केवल लाल बत्ती और सत्ता के साथ जुड़ने का सुख ------- तो इन संविधान के अवांछित तत्वों से छुटकारा कौन दिलायागा हम और आप तो एक बेबस कि तरह सिर्फ देखते रहेंगे ? अच्छे लेख के लिए हार्दिक बधाई / .

के द्वारा: s p singh s p singh

प्रिय मिश्र जी,, हमेशा की तरह एक बार फिर आप का सुन्दर और जानकारी भरा लेख पढने को मिला,, जिस तरह से आप अपने लेखो में reference देते है वह वाकई काबिले तारीफ़ है,, जिन महापुरुषों की बाते आपने लिखी है वह बेहद सम्मानित है !! लेकिन एक बात जो मेरे मन में आती है जो आप से शेयर करना चाहता हूँ वह यह की जिस वक़्त की यह बाते है वह वक़्त शायद भारत और भारतीय मुसलमानों के लिए सब से ज्यादा kathin था, एक लंबी गुलामी के बाद देश आज़ाद हुआ था और यह आज़ादी एक बहुत बड़ा जख्म (विभाजन) दे कर मिली थी, यह ठीक वैसे ही था जैसे किसी व्यक्ति के दोनों हाथ काट कर कहा जाये जाओ मैंने तो तुम्हें आज़ाद किया,, सही तो यह था की अगले 100 साल और लड़ा जाता लेकिन विभाजन को किसी भी कीमत पर बर्दाश्त नहीं किया जाना चाहिए था परंतु ऐसा नहीं हुआ इसका कारण ( जो मेरी समझ मे आता है ) था नेताओ जी सत्ता और कुर्सी की लालच,, यदि आप मेरा मत पुछे तो मैं कहूँगा की भारत के मुसलमानो के साथ सब से बड़ी दुश्मनी अगर किसी ने किया है तो वह शख्स जिन्ना है,उसने आज़ादी की मे मुसलमानो के योगदान की कीमत वसूल की सिर्फ अपनी गद्दी के लिए, और मुसलमानो को हमेशा के लिए एक जख्म दे दिया !! आज पाकिस्तान के क्या हालत है दुनिया के सामने है !! वहाँ से लाख दर्जे अच्छे हालात मे भारत के मुसलमान है हर लिहाज से,, यहाँ तक की बड़े बड़े इस्लामिक विद्वान जो भारतीय है विश्व मे बेहद सम्मानित है, शायद आप को मालूम हो की लखनऊ के अली मिया की लिखी किताबे अरब देशो तक मे चलती है !! अब बात आती है हिन्दू और मुसलमानो के रिश्तो की, तो साहब तमाम बातों के बावजूद यह एक अटल सच है की सदियो से यह दोनों साथ रहते आए है और इनको अलग करना ना मुमकिन है,, यह अगर एक दिन एक दूसरे के खून के प्यासे दिखते है तो हज़ार दिन एक दूसरे के लिए जान निछावर करते दिखते है,, इनका रंग रूप, इनके मिजाज, रहन सहन, संस्कृति सब एक है , क्या हम या आप एक झुंड देख कर बता सकते है की इसमे कौन मुसलमान है कौन हिन्दू ? सभी के रंग रूप एक / पहनावा एक / समस्ये एक,, फिर फर्क कहाँ है ?? कहीं नहीं और कैसे हो आखिर भारत के 90% मुसलमान पहले हिन्दू थे, हमने धर्म बदला है संस्कृति / रहन सहन नहीं !! फिर आखरी बात की जो विभाजन के ज़िम्मेदार थे या पाकिस्तान के हमदर्द थे वह गुज़र गए, हम लोग (या नयी जेनेरेशन) ने आज़ाद भारत मे जनम लिया है और हम भारतीय है हमारा कुछ लेने देना या हमदर्दी उन लोगो के साथ नहीं है जिन्हों ने भारत पर लूट के लिए हमला किया या भारत के टुकड़े किए या भारत के विरोधी हैं,, एक आम भारतीय की तरह हमारी भी समस्या है चाहे वह बेरोजगारी हो , सांप्रदायिक दंगे हो या आतंकवाद,, हमे इन का मुकाबला एक भारतीय की तरह ही करना है !! भारत हमारा देश है और हमारा आस्तित्व इस ही मे है यहीं हमने जनम लिया और अल्लाह से दुआ यहीं की मिट्टी मे दफन हो !! जय भारत !! जय हिन्द राशिद http://rashid.jagranjunction.com

के द्वारा:

के द्वारा: kmmishra kmmishra

आदरणीय बाजपेई जी सादर प्रणाम । आपने पूछा कि ” धर्मनिष्‍ठ जनमानस धर्म से निरपेक्ष कैसे रह सकता है“ . जवाब देने से पहले मैं आपसे पूछना चाहता हूं कि हिंदू धर्म में धर्म की क्या अवधारणा दी गयी है और सेमेटिक धर्मों की धर्म के प्रति क्या अवधारणा है । अगर अपने ‘गीता और कुरान’ पर मेरी टिप्पणी को ध्यान पूर्वक पढ़ा है तो उत्तर उसी में छिपा है । फिर आपने लिखा है -”हमें इतिहास भी निरपेक्ष होकर ही पढना.लिखना होगा।“ यहां एक स्वाभाविक प्रश्न उठता है कि कौन सा इतिहास ? जो कम्युनिस्टों ने राष्ट्रनिरपेक्ष हो कर 1950 से लिखा है या मूल इतिहास जैसा कि मैंने ऊपर तीन तीन महान राष्ट्रनायकों को उद्धृत किया है । किसको सच माना जाये । एक जो स्वयं इतिहास का हिस्सा रहे हैं, भुक्तभोगी रहे हैं या फिर उनके लिखे इतिहास को जिनकी वजह से हम स्वयं अपना ही इतिहास भूल गये और सिर्फ मध्ययुगीन शासकों के कुण्डलियां याद करते रहे । . आज ओबामा तक कह गया कि पूरा विश्व आज भारत की तरफ देख रहा है उसके सनातन ज्ञान के कारण । दुनिया का सबसे शक्तिशाली व्यक्ति भी वैश्विक समस्याओं को सुलझाने के लिये हमारी तरफ ताक रहा है । इसके पीछे हमारी हजारों साल पुरानी ज्ञान की परंपरा है । हिंदू धर्म पोखर का सड़ता पानी नहीं है जहां डेंगू, मलेरिया के मच्छर पनपते हैं । यह एक निरंतर विकास की धारा है । यह खुद को समय के साथ अपग्रेड करती रहती है । नये विचारों के लिये इसने अपने दिमाग के दरवाजे कभी बंद नहीं किये । यहां विवेक, सोचने, समझने की आजादी है । . धर्म इंसानों के लिये होता है, जानवरों के लिये नहीं । इंसान पहले आया धर्म बाद में । इंसान स्वभावतः स्वतंत्र होता है । उसको किसी की गुलामी पसंद नहीं होती । धर्म की भी नहीं । हिंदूधर्म का चरित्र गुलाम बनाना नहीं बल्कि आत्मिक, सामाजिक, राष्ट्रीय, वैश्विक विकास है । इसलिये हम वसुधैव कुटुंबकम और सर्वे भवन्तु सुखिनः सर्वे सन्तु निरामया की बात करते हैं । . मैं हमेशा से भाईचारे और समरसता का पक्षधर रहा हूं लेकिन इसके लिये इतिहास की कड़ुवी सचाईयों से आंखे मंूद लेना कौन सी समझदारी की बात है । इतिहास बड़ा बेरहम होता है । जो उसे भूलजाते हैं वो उनको फिर खड़ा हो कर याद दिला देता है । भाईचारे के लिये त्याग और खुले दिलो-दिमाग की जरूरत होती है वरना एक पक्ष त्याग ही करता रह जायेगा और दूसरा यही कहेगा कि आप बड़े हैं आप त्याग करिये । राष्ट्रधर्म सर्वोपरि होना चाहिये फिर हम चाहे किसी भी धर्म के अनुयायी हों । . मैंने देखा है कि आपको मुस्लिम भाईयों का खूब समर्थन मिलता है वे आपको पढ़ते और सरहाते भी खूब हैं । एक बार जरा उनसे देश की बढ़ती जनसंख्या पर विचार करने और गर्भनिरोधकों के इस्तेमाल के लिये कह कर देखिये । . काका एक तरफ तो आप कहते हो कि मैं इस अवस्था में ज्यादा पढ़ नहीं पाता हूं, मेरा इतन अध्ययन नहीं है । दूसरी तरफ जब हम तथ्य रखते हैं तब आप उससे बड़ी आसानी से असहमत भी हो जाते हो । आप बड़े हो कुछ भी कह सकते हो । सादर आपका ।

के द्वारा: kmmishra kmmishra

प्रिय मिश्र जी, गांधी जी, सरदार पटेल और बाबा साहब के विचारों को इतना स्पष्ट रूप में मंच पर रखने पर आपको हार्दिक बधाई| जरूरत यहाँ पर शायद वाद-विवाद की नहीं रह जाती है, जरूरत है तो सिर्फ इन महापुरुषों के विचारों पर आत्म-मंथन करने की और यही एक मात्र रास्ता है सत्य और तथ्य को समझने का| वैसे आपके दिए गए विवरण और साक्ष्यों पर कुतर्क करने का एक बढ़िया तरीका मैं सुझा देता हूँ- 'आपके द्वारा अवतरित सारे उदाहरण उन महापुरुषों के श्रीमुख से निकले हैं जो जन्म से हिन्दू थे और बाबा साहब ने धर्म परिवर्तन भी किया तो वे हिन्दू धर्म की ही एक शाखा (बौद्ध) के अनुयायी हुए और आप कैसे कह सकते हैं कि इन हिन्दुओं के मन में मुसलमानों के प्रति स्वाभाविक रूप से दुर्भावना नहीं रही रही होगी?' सादर वन्दे-मातरम!

के द्वारा: chaatak chaatak

प्रिय मिश्र जी, गांधी जी, सरदार पटेल और बाबा साहब के विचारों को इतना स्पष्ट रूप में मंच पर रखने पर आपको हार्दिक बधाई| जरूरत यहाँ पर शायद वाद-विवाद की नहीं रह जाती है, जरूरत है तो सिर्फ इन महापुरुषों के विचारों पर आत्म-मंथन करने की और यही एक मात्र रास्ता है सत्य और तथ्य को समझने का| वैसे आपके दिए गए विवरण और साक्ष्यों पर कुतर्क करने का एक बढ़िया तरीका मैं सुझा देता हूँ- 'आपके द्वारा अवतरित सारे उदाहरण उन महापुरुषों के श्रीमुख से निकले हैं जो जन्म से हिन्दू थे और बाबा साहब ने धर्म परिवर्तन भी किया तो वे हिन्दू धर्म की ही एक शाखा (बौद्ध) के अनुयायी हुए और आप कैसे खा सकते हैं कि इन हिन्दुओं के मन में मुसलमानों के प्रति स्वाभाविक रूप से दुर्भावना नहीं रही रही होगी?' सादर वन्दे-मातरम!

के द्वारा: chaatak chaatak

नंदा दीप जलाना होगा| अंध तमस फिर से मंडराया, मेधा पर संकट है छाया| फटी जेब और हाँथ है खाली, बोलो कैसे मने दिवाली ? कोई देव नहीं आएगा, अब खुद ही तुल जाना होगा| नंदा दीप जलाना होगा|| केहरी के गह्वर में गर्जन, अरि-ललकार सुनी कितने जन? भेंड, भेड़िया बनकर आया, जिसका खाया,उसका गाया| मात्स्य-न्याय फिर से प्रचलन में, यह दुश्चक्र मिटाना होगा| नंदा-दीप जलाना होगा| नयनों से भी नहीं दीखता, जो हँसता था आज चीखता| घरियालों के नेत्र ताकते, कई शतक हम रहे झांकते| रक्त हुआ ठंडा या बंजर भूमि, नहीं, गरमाना होगा| नंदा दीप जलाना होगा ||..................................मनोज कुमार सिंह ''मयंक'' आदरणीय मिश्रा जी, आपको और आपके सारे परिवार को ज्योति पर्व दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं || वन्देमातरम

के द्वारा: atharvavedamanoj atharvavedamanoj

प्रिय कूलबेबी, क्योंकि तुम बेबी हो इसलिये आशीर्वाद । कृपया पूरा लेख पढें । शायद आप पढ़ भी चुके हैं । मैंन कब कहा कि कश्मीरी हमारे भाई नहीं हैं । मैंने सिर्फ इतना कहा कि कश्मीर समस्या को अगर नेहरू के चश्मे से देखेंगे तो रहा सहा कश्मीर भी गवां देंगे और अगर लौह पुरूष सरदार वल्लभ भाई के नजरिये से देखेंगे तो पीओके और चीन द्वारा कब्जाया भाग भी वापस ले लेंगे । . कश्मीर भारत का अभिन्न अंग है । कश्मीरियों के लिये पूरा भारत खुला है लेकिन भारतवासियों के लिये कश्मीर नहीं खुला है । यह कौन सी समानता हुयी । आपको शायद मालूम नहीं होगा कि बंटवारे के बाद जो हिंदू जम्मू कश्मीर में आकर बसे उन्हें जम्मू कश्मीर के विधानसभा चुनावों में वोट डालने की आजादी नहीं है । वे सिर्फ लोकसभा के चुनावों में ही अपन मतदान कर सकते हैं । जो अनु0 370 खुद संविधान के तमाम मूलअधिकारों के ही खिलाफ हो वह अपने आप असंवैधानिक हो जाती है । क्योंकि हम कश्मीर को नेहरू के नजरिये से देखते हैं इसलिये यह सब दिखायी नहीं पड़ता है । . यह तो आपभी मानते होंगे कि अलगाववादियों को पाकिस्तान सरकार का समर्थन हासिल है और वे भारत सरकार के खिलाफ एक युद्ध लड़ रहे हैं और कश्मीर को भारत से अलग करने की मांग कर रहे हैं । अब आप ही बताईये कि सन 47 और 99 में भेष बदल कर कश्मीर पर हमला करने वालों और इन अलगाववादियों में क्या अंतर है । . प्रिय कूलबेबी मैं तुमसे गुस्सा हूं नहीं हूं बल्कि तुमको यह बताना चाह रहा हूं कि जब कोयी चोर पकड़ा जाता है तो सबसे पहले घर का मालिक उसकी धुनाई करता है, फिर बाहर की पब्लिक फिर पुलिसवाले उसे थाने ले जाकर सूतते हैं । तुम्हारी भी यही हालत है प्यारे । तुम छद्म नाम से ऊल जलूल टिप्पणी करते हो । तुम कोयी ब्लागर नहीं हो । तुम हमारे लिये एक घुसपैठिये हो । तुम्हारी हालत उस चोर जैसी है । अगर तुम ब्लागर होते तो लोग तुम्हारे समर्थन में उतरते । क्योंकि तुम ब्लागर नहीं हो इसलिये अकेले हो । . इसीलिय निवेदन कर रहा हूं कि प्यारे बच्चे अपने असली नाम से एक ब्लाग बनाओ अपनी फोटू लगाओ और फिर अपनी बात रखो । फिर तुम्हारी तरफ से बहस करने वाले भी हो जायेंगे लेकिन अगर घुसपैठिये बने रहोगे तब तुम मुश्किल में पड़ जाओगे । . हिंदी टाईपिंग अगर समस्या है तो गूगल के तमाम साफ्टवेयर हैं जिनसे तुम रोमन में लिख कर हिंदी में लिख सकोगे । बहुत से साफ्टवेयर आफ लाईन भी काम करते हैं । मैं तुम्हारी ब्लाग बनाने मे मदद कर दूंगा । तुम्हारा के एम मिश्र

के द्वारा:

प्रिय श्री के एम मिश्र जी, एवं श्री नरेश मिश्र जी, रचना के हिसाब से तो संबोधन तो श्री नरेश मिश्र जी का ही होना चाहिए पर आप सूत्रधार है इस लिए आप को ही संबोधित कर रहा हूं। एक आप से अर्ज है कृपया श्री नरेश मिश्र जी का परिचय हमें भी बताऐं क्‍योंकि मै तो नया रीडर हूं और आप की पुरानी पोस्‍टों को अभी नहीं पढ़ पाया हूं शायद आप ने कहीं उल्‍लेख किया हो। मुद्दा तो वही है पर जो मै एक साधारण बोलचाल की भाषा में कह चुका पर श्री नरेश मिश्र जी ने एक सुलझे हए प‍िरिपक्‍व लेखक की तरह उस अवेदना को ब्‍यां किया है जो कि काबिले तारिफ है और हम सिखाडुओं को कुछ शिक्षा भी देता है। सलाद की प्‍लेट वही है पर उस को सजा कर परोसने का तरीका कोई प्रोवेशनल ही जानता है। एक अच्‍छा लेख जिस को बार-बार पढ़ने को मन करे। धन्‍यवाद। सादर प्रणाम व नमस्‍कार ।

के द्वारा: दीपक जोशी DEEPAK JOSHI दीपक जोशी DEEPAK JOSHI

आदरणीय श्री नरेश मिश्र जी व प्रिय श्री के एम मिश्र जी, सादर प्रणाम व नमस्‍कार । साथ रहने का संबंध या दीपक जोशी जी के शब्‍दों में बिन फेरे हम तेरे का संबंध है ही ऐसा की बार-बार अनेकों सवाल खड़ें करे । वकील साहिबा को किसी शब्‍द विशेष पर आपत्ति हैं लेकिन उन्‍होंनें यह स्‍पष्‍ट क्‍यों नहीं किया कि इस संबंध पर आपत्ति है या नहीं । आप दोनों का आभार की आपनें निर्णय के उस पहलू को भी लोगों के सामनें रखा जिसे मीडिया ने ज्‍यादा तव्‍वजों ना दी थी । भगवान श्री कृष्ण और भगवती राधा के बीच का संबंध का उल्‍लेख अपने मनोभावों में करने वाले माननीय न्‍यायाधीश महोदय की शिक्षा-दीक्षा संभवत: केवल अंग्रेजी पुस्‍तकें व अंग्रेजी साहित्‍य के माध्‍यम से हुई होगी । अन्‍यथा वे ऐसी अनावश्‍यक टिप्‍पणी कदापि ना करते । चलिए इस बहानें संबंधों की व्‍याख्‍या का नया दौर तो चला है और भारतीय संस्‍कृति व संबंधों पर भी कुछ चर्चा तो हुई । अरविन्‍द पारीक बीमारी की वजह से काफी समय से इस मंच से दूर था अत: आपके लगभग 5-6 लेख नहीं पढ़ पाया हूँ । उसके लिए क्षमा प्रार्थी हूँ । अरविन्‍द पारीक

के द्वारा: bhaijikahin by ARVIND PAREEK bhaijikahin by ARVIND PAREEK

प्रिय मिश्र जी प्रणाम , लगता है की सम्मानित वकीलसाहिबा को लिव इन रिलेशन पर कोई एतराज नहीं है । इस रिलेशन पर तो सुप्रीम कोर्ट पहले ही मोहर लगा चुकी है । इस रिलेशन का दायरा बताने का काम बाकी था । कोर्ट ने अपनी समझ से यह जिम्मेदारी निभा दी ।तो अब वकीलसाहिबा को तो केवल \"रखैल \" नाम पर एतराज क्यों है उन्होंने गनीमत तो या की किसी नए नाम का सुझाव नहीं दिया जो की उन्हें अपनी विद्द्वता की हिसाब से देना चहिये था - पहले तो केवल नेताओं में ही \"छपास\" और \"दिखास\" की बीमारी ग्रस्त थे अर्थात अखबार में छपने की और टी वी में दिखने की परन्तु यह बिमारी अब देश के हर आम और खास लोगों में होने लगी है - आगे क्या होगा ऊपर वाला ही जाने -----!!!!!!!!!!

के द्वारा:

भाई मिश्रा जी एवं परम आदरणीय श्री नरेश मिश्र जी( लिवइन रिलेशन) से भी कहीं अधिक देश का विकाश हो चुका है ,पहले देश में (औरतों को सेक्सवर्कर) हुआ करती थीं ,हालाँकि पुरुष प्रधान समाज ने ही उन्हें (सेक्सवर्कर) बनने पर विवश किया था ,,लेकिन आज का दौर कुछ अलग है ,,आज अच्छी जींस या ब्रांडेड लिपस्टिक किस किस नाम का उल्लेख करूं (वैसे भी सौन्दर्य प्रसाधन के विषय में मेरा ज्ञान सीमित है ) की खातिर इस प्रवित्ति को अपना रही हैं,,और आज का पुरुष भी कुछ कम नही है (पुरुष वेश्या ) यह शब्द भी आपने सुना होगा ,,पुरुष की मर्यादा की बात ही छोडिये ऐसा पुरुष तो गिर ही चुका है ,,लेकिन उनकी मांग करने वाली हमारी भारतीय नारी जो कभी घर की मर्यादा कही जाती थी,,******प्रसंग को विराम दे रहा हूँ क्योंकि भावावेश में जब उँगलियाँ चलने लगतीं हैं तो कोई न कोई आहत अवश्य हो जाता है ,,शायद यहाँ भी महिला स्वतंत्रता का कोई पैरोकार निकलकर सामने आ जाये *...........आपका

के द्वारा:

आधुनिकता और स्त्री के आजादी के नाम पर देश में जिस तरह से live in relation और वेश्यावृति को स्वीकृति मिली हुई है उसमें देश की खुशहाली या मुक्त जीवन तो किसी भी तरह नहीं है, हाँ यह तो तय है की अब इस की आड़ में लोग जो चाहे करेंगे. और पुरे समाज और संस्कृति की इज्ज़त इन लोगों ने दांव पर लगा दिया है. अब कोई माँ बाप अपने बच्चो से अच्छे संस्कार के उम्मीद ना करे, कोई पत्नी अपने पति पर भरोसा न करे, कोई पति अपने पत्नी का विश्वाश न करे क्यूंकि यही रहा तो ऐसा ही हो जायेगा. आज इसके साथ तो कल उसके साथ. यह रोज़गार का हिस्सा बना दिया गया है. और तो और कुछ कह भी नहीं सकते. और नपुंसक होते पुरुषों ने अपनी नपुंसकता इसमें छुपा ली है.

के द्वारा: jalal jalal

आदरणीय श्री नरेश मिश्र जी, आपके पोस्ट पर कोई कमेन्ट करना सूरज को दीपक दिखाने जैसी बात है| आधुनिक होती नारियां एक तरफ तो समाज के पुरुषवादी होने का रोना रोती हैं और दूसरी तरफ उन्ही की कीप और लिव-इन-(पता नहीं क्या) कहलाने के लिए इस 'पता नहीं क्या की तरफदारी करती हैं' के तरफ कहती हैं कि कोई महिला रखैल रखे तो कैसा लगेगा और दूसरी तरफ जिगोलो की तादात बढती जाती है| अब महिला जिगोलो रखे या पुरुष कीप फर्क क्या पड़ता है 'छुरी खरबूजे पर गिरे या खरबूजा छुरी पर' कटेगा कौन? इस मामले में भी नारियां एक बार फिर आधुनिक तरीके से पुरुषों द्वारा छली ही जा रही है पहले यही बात समाज ने कही तो एक व्यक्ति के हाथों शोषण का रोना था, अब अदालत कह रही है शोषण करने का अधिकार एक को नहीं कई को दो, शोषण रुके न रुके टेस्ट तो बदलता रहेगा| हो गई न पुरुषों की बराबरी! कवियित्री कमला दास के जीवन पर नज़र डालें और देखें उन्हें हर बार क्या मिला? वे इससे अच्छी और लोकप्रिय कवियित्री हो सकती थीं और उनके पति के द्वारा दिए गए दर्द उनकी कविताओं में सदियों तक पढ़े जाते और बदतमीज़ पति को रहती दुनिया तक गालियाँ मिलती लेकिन उन्होंने अपनी सेक्स लाइफ को कविताओं में डाल कर साहित्य का भी तिया-पांचा कर डाला| क्या कभी उन्हें दुनिया कीट्स जैसे प्रेमी कवि की श्रेणी में स्वीकार करेगी? क्या कमला दास के पति को वो ज़िल्लत उठानी पड़ेगी जो कीट्स की प्रेमिका को हर रोज़ पाठकों की नज़रों में गिर कर उठानी पड़ती है? इन सवालों का जवाब कोई महिला ही महिलाओं के लिए दे तो शायद ज्यादा हितकारी होगा| सिर्फ पुरुषों को गरियाने उनकी निंदा करने या उनकी कीप बनकर उनकी और अपनी वासनाओं की तृप्ति करने से नारी उत्थान नहीं होगा| नारी उत्थान नारी की अपनी गरिमा और अपनी मेधा को चरम विकास की ओर बढ़ने की प्रवृत्ति से होगा| श्री मिश्र जी का आभार जो उन्होंने इस विषय पर एक अच्छे लेख के माद्यम से चेतना लाने का प्रयास किया!

के द्वारा: chaatak chaatak

बेटा ठंडे बच्चे आशीर्वाद, तुम्हारी टिप्पणी से पता चल गया कि तुम को हिन्दी कितनी आती है । तुमतो बचवा हिन्दी ठीक से पढ़ भी नहीं सकते हो । 80% kashmeer to jammu me basta hai……Ha Ha Ha पूरा पढ़ा करो तुम्हारे लिये प्राईमरी की पाठशाला मैंने नहीं खोल रखी है । \"80 प्रतिशत कश्मीर तो जम्मू और लद्दाख मे बसता है\" . रहा भारतीय फौज का सवाल तो उन्हें जितनी हिंदी आती है उतनी पाकिस्तान को सीखाने के लिये बहुत है क्योंकि उसको भारत सरकार के मुंबई हमलों के डोसियर समझ में नहीं आ रहे हैं इससे साफ पता चलता है कि उनकी समझ और तुम्हारी समझ में काफी समानता है । . और मुन्ना थोड़ा बड़े बन जाओ । अपना ब्लाग बनाओ और दिमाग में कुछ पाजिटिव है तो लिख डालो । इस तरह चोरों की तरह छद्म नाम से टिप्पणियां करोगे तो मुश्किल में पड़ जाओगे ।

के द्वारा:

(I sure If Kashmeer is ours the inhabitants of Kashmeer are also ours) प्यारे ठंडे बच्चे जी आपकी टिप्पणी का जवाब मैं एक लाईन में दे सकता हूं लेकिन वह आपको समझ में नहीं आयेगा । हिंदी आती हो (अगर हिंदुस्तानी होगे तो आती होगी पाकिस्तानी होगे तो कुछ सालों मे भारतीय सेना पहुंच कर तुम्हे सीखा देगी) तो पूरा लेख ध्यान से पढ़ो इसमें कहीं नहीं लिखा है कि कश्मीरी हमारे भाई बंधु नहीं हैं । 80 प्रतिशत कश्मीर तो जम्मू और लद्दाख मे बसता है । हां अलगाववादियों के मानवाधिकार का मैं कतई समर्थक नहीं हूं । उनका वहीं हश्र होना चाहिये जो इंदिरागांधी ने पंजाब में अलगाववादियों का किया था । आशा है कि समझ गये होगे । वैसे गजनवी तुम्हारा कौन लगता है इसकी भी जानकारी दे देना ।

के द्वारा:

प्रिय श्री मिश्र जी, जिस सादगी के साथ श्री नरेश मिश्र ने नेताओं को नंगा करे पूछा 'नंगा नहायेगा क्या और निचोडेगा क्या?' वो वाकई काबिले-ए-तारीफ़ है| मैं यहाँ केवल इतना कहना चाहता हूँ कि पूरे विश्व में शायद भारत अकेला ऐसा देश है जिसमे आपको एक ऐसी भोली आवाम मिलती है जो एक ही गलती बार-बात दोहराती रहती है| यहाँ एक ही फिल्म की जब चार-चार बार रीमेक को 'हमारी फिल्म थोडा हटके है|' कह के हिट करा लिया जाता है तो नेताओं को तो हर बार कुछ हटके लटके-झटके दिखाने में महारथ हासिल है और कोई माने न माने राहुल बाबा के लटकों झटकों के आगे तो इस समय आमिर और शाहरुख़ भी शरमा जाएँ| क्या ओरिजिनल एक्टिंग है भाई! श्री नरेश मिश्र जी को इस लेख के लिए धन्यवाद कहियेगा!

के द्वारा: chaatak chaatak

प्रिय मिश्र जी, श्री अरुण कान्त जी की उलझन और उसपर आपके द्वारा दिए गए तथ्यपरक समाधान को पढ़ कर एक बात बिलकुल स्पष्ट हो जाती है कि हिन्दू-मुस्लिम एकता के बीच जो सबसे बड़े रोड़े हैं वो यही लतखोर कमुनिस्ट इतिहासकार हैं जिनका आभारी हमेशा दोगला नेहरु परिवार रहा है | भारत के विभाजन से लेकर लाल बहादुर शास्त्री जी की ह्त्या करवाने तक का श्रेय इसी दोगले वंश को है जिसने हिन्दुस्तान और हिन्दुस्तानियों को अपनी जागीर समझ रखा है| गांधीजी, सुभाष चन्द्र बोस और शास्त्री जी की लाशों पर सत्ता की दावतें उड़ाने वाले इन लालची भेडियों ने कभी भी इन महापुरुषों की हत्याओं की फोरेंसिक जांच की शुरुवात नहीं होने दी | जबकि दुसरे देशों में राष्ट्राध्यक्षों और महापुरुषों की हत्याओं और सहज मृत्यु पर तक भी हज़ारों एजेंसियां सैकड़ों साल गुजर जाने के बाद भी पूरे मनोयोग से तथ्यों को खोज खोज कर सामने ला रही हैं ये कांग्रेसी भेडिये और कमुनिस्ट चाटुकार वास्तविक इतिहास को चाटकर छद्म इतिहास का भूसा देश के नौकरशाहों, बच्चों और पत्रकारों के दिलो दिमाग में ठूंसने में लगे हैं ताकि इनकी कारगुजारियों पर हमेशा के लिए धूल पड़ जाए | ये इस बात को भूल रहे हैं कि परिवर्तन की आंधी चलने पर धूल मिटटी उड़ जायेगी और सत्य सके सामने आ जायेगा | अच्छे लेखन द्वारा भटकी पत्रकारिता को सही राह दिखाने पर बधाई!

के द्वारा: chaatak chaatak

राहुल बाबा के जिगरी उमर अब्दुल्ला इस उमर में लौंडहाई से बाज नहीं आ रहे हैं । उनका ताजा बयान है कि कश्मीर का भारत में अधूरा विलय हुआ था । राहुल बाबा की संगत का असर तो पड़ना ही था । न इनको भारत के इतिहास का ज्ञान है और न उनको । कश्मीर का मुख्यमंत्री एक ऐयाश नेता का ऐयाश पुत्र है । इनको इतना भी ज्ञान नहीं है कि अगर भारतीय सेना कश्मीर में न होती तो ये पिता पुत्र रावलपिंडी या मुल्तान की किसी सैनिक जेल की शोभा बढ़ा रहे होते । मित्रों, देश युवराजों के चक्कर में फंसता जा रहा है । पुराने लंपट जमींदारों के अघाये हुये युवराजों की फौज आज कल सत्ता के गलियारों में घूम रही है । नजरें उठा कर देखिये । चोर का बेटा चोर, भिखारी का बेटा भिखारी, सेठ का बेटा सेठ, आई ए एस का बेटा आई ए एस, डाक्टर का बेटा डाक्टर, विधायक का बेटा विधायक, मंत्री का बेटा मंत्री, सीएम का बेटा सीएम और पीएम का बेटा पीएम बन रहा है । बिहार चुनाव में टिकट भी वंशवाद के आधार पर बांटे गये हैं । संविधान में लोकतंत्र की जो परिभाषा दी गयी है वह सिर्फ चुनाव की डेट घोषित होने से चुनाव के नतीजे घोषित होने तक ही फलीभूत होती है । उसके बाद भारत में फिर वही सामंतयुग प्रभावी हो जाता है । अगर यकीं न आये तो वर्तमान स्थिति और 100 साल पहले की स्थिति दोनो की तुलना करके देख लीजिये । आम आदमी पहले की तरह ही मंहगाई, गरीबी, भ्रष्टाचार, बेरोजगारी से त्रस्त है । कभी किसी अफसर से, पुलिस वाले से, मंत्री से वर्तमान में पाला पड़े तो पहले की जमीदारी व्यवस्था आंखों के सामने घूम जायेगी । थाने और कचहरी का चक्कर अगर शुरू हुआ तो आपका भगवान ही मालिक है । अब आप कहेंगे कि क्या किया जा सकता है । बहुत आसान काम है । बंदूक उठा कर किसी लाम पर नहीं जाना है । वही तरीका अपनाईये जो गांधी जी ने अपनाया था । शांति पूर्वक विरोध करिये । अपनी बात कहने से झिझकिये नहीं । जो गलत है उसकी शिकायत करिये । संपादक के नाम पत्र, आर टी आई, ब्लाग पर अपनी आवाज बुलंद कीजिये और जो सो रहे हैं और सोचते हैं कि देश ऐसा ही चलने दो उनको जगाईये । धीरे धीरे माहौल बदलने लगेगा । जय हिंद ।

के द्वारा: kmmishra kmmishra

आप सभी ब्लागर बंधुओं को यह व्यंग लेख पसंद आया इसके लिये मैं श्री नरेश मिश्र की तरफ से आप सबका आभार प्रकट करता हूं । मुल्ला मुलायम सिंह के सेकुलर पाखंड को जनता भली भांति समझ गयी । साम्प्रदायिक विद्वेष से लबरेज उनकी कथनी और करनी में भारी अंतर साफ नजर आता है । 500 सालों से निरंतर चले आ रहे राममंदिर संघर्ष में हिंदुओं के लहू की अंतिम आहूति मौलाना मुलायम सिंह ने 1990 में ली थी जब उन्होंने निहत्थे कारसेवकों पर गोलियां चलवा दी थीं और सैंकड़ों कारसेवकों की लाशें सरयू में बोरे में डाल कर बहायी गयीं थी । फिर उन्होंने मस्जिद ध्वंस कें मुख्य आरोपी कल्याण सिंह से हाथ मिला लिया था लोध वोट के लिये । आज जब मुस्लिम वोट बैंक उनके हाथों से खिसक गया है तब वे फिर धर्मनिरपेक्षता का पाखंड कर रहे हैं । धर्मनिरपेक्षता का पाखंड मुल्ला मुलायम सिंह के साथ साथ कांगे्रस पार्टी भी कर रही है । अयोध्या फैसले को लटकाये रहने में ही कांग्रेस की भलाई थी । फैसला न आने पाये इस लिये उसने आर सी त्रिपाठी को मोहरा बना कर फैसले को टलवाने में कोयी कसर न छोड़ी । अब इस फैसले से उसको लगता है कि मुस्लिम वोट बैंक हाथ से निकल जायेगा तो उसके तमाम नेताओं को जूड़ी बुखार आने लगा है । फैसले के पहले ही कांग्रेस महासचिव दिग्विजय सिंह का बयान था कि राम मंदिर के लिये आर एस एस और भाजपा किसी भी हद तक जा सकती है । इसके विपरीत फैसला आने पर भाजपा और आर एस एस की टिप्पणियां बेहद संतुलित थी । उन्होंने कहा कि इस फैसले से किसी की हार जीत नहीं हुयी है । लेकिन कांगे्रस का नुकसान हो चुका था । अब कांग्रेस इस नुकसान की भरपाई के लिये मस्लिम समुदाय को कम्पन्सेट कर रही है । कल ही प्रधानमंत्री मनमोहनसिंह का बयान था कि आउट आफ कोर्ट जा कर (मामला अभी सुप्रीम कोर्ट में पेंडिग है) सरकार जामिया मिलिया और अलीगढ मुस्लिम यूनिवर्सिटी को अल्पसंख्यक यूनिवर्सिटी का दर्जा देगी । अभी तक ये केन्द्रीय विश्व विद्यालय हैं और इस मामले पर सुप्रीम कोर्ट में केन्द्र सरकार खुद ही इसका सैद्धांतिक विरोध कर रही है । दूसरा मामला । कल ही भोपाल में कांग्रेस महासचिव राहुल गांधी ने राष्ट्रवादी संगठन आर0 एस0 एस0 की तुलना आतंकवादी संगठन सिमि से की है । यह बिल्कुल वैसा ही बयान है जैसा कि मुल्ला मुलायम सिंह ने अभी दो दिन पहले दिया था कि मुसमान अपने को ठगा महूसस कर रहे हैं । इस फैसले से मुलायम और कांग्रेस दोनों की छद्यम धर्मनिरपेक्षता की हांड़ी चूल्हे पर नहीं चढ़ पायी । राहुल गांधी इसके पहले भी कई ऐसे बयान दे चुके हैं जिससे उनके अहंकारी और तानाशाही व्यक्तित्व का पता चलता है । कांग्रेस उनको युवराज मानती है और अगला पी एम बनाने की तैयारी में है पर युवराज की बोली और आचार व्यवहार से लगता है कि उनको भारत देश के इतिहास की अधिक जानकारी नहीं है । भाजपा ने सही ही कहा कि उनको कांग्रेस के साम्प्रदायिक इतिहास पर नजर डालनी चाहिये । कुछ लोगों की यह भी राय है (जिन्हें गांधी नेहरू परिवार की कुण्डली ज्ञात है) कि उन्हें अपने खानदान के इतिहास पर भी नजर डालनी चाहिये । इधर राहुल बाबा के जिगरी उमर अब्दुल्ला इस उमर मंे लौंडहाई से बाज नहीं आ रहे हैं । उनका ताजा बयान है कि कश्मीर का भारत में अधूरा विलय हुआ था । राहुल बाबा की संगत का असर तो पड़ना ही था । न इनको भारत के इतिहास का ज्ञान है और न उनको । कश्मीर का मुख्यमंत्री एक ऐयाश नेता का ऐयाश पुत्र है । इनको इतना भी ज्ञान नहीं है कि अगर भारत सेना कश्मीर में न होती तो ये पिता पुत्र रावलपिंडी या मुल्तान की किसी सैनिक जेल की शोभा बढ़ा रहे होते । मित्रों, देश युवराजों के चक्कर में फंसता जा रहा है । पुराने लंपट जमींदारों के अघाये हुये युवराजों की फौज आज कल सत्ता के गलियारों में घूम रही है । नजरें उठा कर देखिये । चोर का बेटा चोर, भिखारी का बेटा भिखारी, सेठ का बेटा सेठ, आई ए एस का बेटा आई ए एस, डाक्टर का बेटा डाक्टर, विधायक का बेटा विधायक, मंत्री का बेटा मंत्री, सीएम का बेटा सीएम और पीएम का बेटा पीएम बन रहा है । बिहार चुनाव में टिकट भी वंशवाद के आधार पर बांटे गये हैं । संविधान में लोकतंत्र की जो परिभाषा दी गयी है वह सिर्फ चुनाव की डेट घोषित होने से चुनाव के नतीजे घोषित होने तक ही फलीभूत होती है । उसके बाद भारत में फिर वही सामंतयुग प्रभावी हो जाता है । अगर यकीं न आये तो वर्तमान स्थिति और 100 साल पहले की स्थिति दोनो की तुलना करके देख लीजिये । आम आदमी पहले की तरह ही मंहगाई, गरीबी, भ्रष्टाचार, बेरोजगारी से त्रस्त है । कभी किसी अफसर से, पुलिस वाले से, मंत्री से वर्तमान में पाला पड़े तो पहले की जमीदारी व्यवस्था आंखों के सामने घूम जायेगी । थाने और कचहरी का चक्कर अगर शुरू हुआ तो आपका भगवान ही मालिक है । अब आप कहेंगे कि क्या किया जा सकता है । बहुत आसान काम है । बंदूक उठा कर किसी लाम पर नहीं जाना है । वही तरीका अपनाईये जो गांधी जी ने अपनाया था । शांति पूर्वक विरोध करिये । अपनी बात कहने से झिझकिये नहीं । जो गलत है उसकी शिकायत करिये । संपादक के नाम पत्र, आर टी आई, ब्लाग पर अपनी आवाज बुलंद कीजिये और जो सो रहे हैं और सोचते हैं कि देश ऐसा ही चलने दो उनको जगाईये । धीरे धीरे माहौल बदलने लगेगा । जय हिंद ।

के द्वारा: kmmishra kmmishra

आदरणीय मिश्रा जी सादर वन्देमातरम आपने बहुत ही नायाब तरीके से मुलायम की नकली धर्मनिरपेक्षता को निशाने पर लिया है...इस पोस्ट के लिए आपका कोटिशः आभार .. सूत न कपास, जुलाहों में लट्ठम लट्ठ । हजारों पेज में लिखे गये फैसले को पढ़ने की फुसर्त सबको नहीं मिल सकती ।.... बहुत खूब ,''लिख लोढ़ा, पढ़ पत्थर फिर भी मुगले आजम '' नेताओं को किताबों से क्या काम? वे आँखें जो खोलती हैं और नेतागण अगर आँखें बंद नहीं करेंगे तो जनता की आँखे बंद करने कौन आएगा? लेकिन इन्ही दुर्दांत नेताओं में कम्युनिस्ट भी हैं और यकीं जानिये वे न सिर्फ फैसले को पढेंगे बल्कि कुछ ही दिनों में उसको ऐसा तोड़ मरोड़ कर प्रस्तुत करेंगे की जनता फिर गुमराह होने लगेगी..और वैसे भी देश की ८०% मीडिया पर इनलोगों का एकक्षत्र आधिपत्य है...इन दुराग्रहियों के दुराग्रह को फुकने के लिए जिस मशाल की आवश्यकता है...वह आपकी लेखनी में प्रचुर मात्रा में विद्यमान है..जय भारत जय भारती

के द्वारा: atharvavedamanoj atharvavedamanoj

मिश्रा जी मुलायम सिंह उन नेताओं में से एक हैं जो अपने लाभ के लिए किसी की भी लाश पर से गुजरने को तैयार रहते हैं। इन्हें इस बात से कोई फर्क नहीं पड़ता कि प्रदेश या देश का क्या होगा। इन्हें तो सिर्फ वोट बैंक कब्जिआने से ही मतलब है। लेकिन आप देखें कि अब पीढ़ी बदल चुकी है। अदालत का फैसला आने पर बता दिया है कि अब यह देश कितना परिपक्व हो गया है। मुलायम का यह दिखावटी मुस्लिम प्रेम तब कहां चला गया था जब ये कल्याण सिंह को माला पहनाते घूम रहे थे? इन जैसे नेताओं को इस देश की शांति, सांप्रदायिक सौहार्द, विकास अथवा सम्मान से कोई वास्ता ही नहीं है। बातें बहुत बड़े-बड़े सिद्घांतों की करते हैं लेकिन सच सिर्फ इतना है कि कैसे भी कुर्सी मिल जाए।

के द्वारा:

मनोज जी सादर वंदेमातरम ! आपने इन जयचंद कम्युनिस्ट इतिहासकारों के लिये बिल्कुल ठीक कहा है । पर क्या करें हिंदू धर्म में जिस तरह नास्तिकों तक को मान्यता दी गयी है उसी तरह भारत के संविधान से देश के इन गद्दारों को भी संरक्षण मिल जाता है । मौलिक अधिकारों का जितना दुरूपयोग इन गद्दारों ने किया है उतना किसी आतंकवादी संगठन ने भी नहीं किया है । देश में फैले 90 प्रतिशत आतंकवाद के पोषणकर्ता यही कम्युनिस्ट हैं । चाहे पाकिस्तान के लिये जिन्ना का समर्थन हो या 62 में चीन युद्ध में चीन का एजेंट बनना हो या कई करोड़ बंग्लादेशियों को भारत मंे घुसा कर उन्हें भारतीय नागरिक बनाना हो या नक्सलियों का उत्पादन हो या फिर कश्मीर के अलगाववादियों को सीने से लगाना हो । जब से ये पैदा हुये हैं भारत को तोड़ने का ही काम किया है इन्होंने । भारत सरकार को अब वन्यजीव अधिनियम में से इस हिंसक और जहरीले जानवर को संरक्षित प्रजाति से बाहर कर देना चाहिये । आपकी जोशीली टिप्पणी के लिये आभारी हूं । जय हिंद ।

के द्वारा:

शाही जी प्रणाम । मैं अरूणकांत जी का बहुत आदर करता हूं पर मुझे लगता है कि हिंदू धर्म, इतिहास के बारे में उनका कान्सेप्ट गड़बड़ है । मुझे लगता है कि वे धर्मनिरपेक्षता का पाखंड करने वाली मीडिया के तर्कों को सच मान रहे हैं और उसकी वजह से भ्रमित हैं । तथाकथित सेकुलर मीडिया और कम्युनिस्ट इतिहासकारों की वफादारी भारत देश के प्रति हमेशा से ही संदिग्ध रही है । इसके तमाम प्रमाण हैं । ऐसी ही लोगों ने बहुत से भारतीयों को बरगलाया है । अब आप देखिये कि इस फैसले पर जब हिंदू और मुसलमान शांति और धैर्य से काम ले रहे हैं तब धर्मनिरपेक्षता की तिजारत करने वालों के द्वारा उच्च न्यायालय के फैसले पर उंगली उठायी जा रही है । फैसला आने के पहले तक ये भारत की न्यायपालिका का गुणगान करते न थकते थे । फैसला जब इनके देशद्रोही सिद्धांतों के अनुसार नहीं आया तो ये न्यायापालिका पर ही उंगली उठाने लगे जबकि मैं जोर देकर कहता हूं कि ना तो इनको विधि की जानकारी है और न ही सच्चे इतिहास की । अरूणकांत जी जैसे लोगों को इस सेकुलर मीडिया ने मिस्मेराईज किया हुआ है । आप देखिये उनका लेख पूरा का पूरा मुल्ला मुलायम सिंह के बयान (जो कि साम्प्रदायिकता से लबरेज था) का ही एडवांस वर्जन है । अब अगर मैं उनके लेख के उत्तर में यह लेख न लिखता तो बहुत से लोग उनके ही पक्ष को सत्य मान लेते । इस लेख को लिखने के 24 घंटे बाद मैं मानता हूं कि मेरी भाषा में तल्खी थी लेकिन ये तल्खी करन थापर, अर्णव गोस्वामी आदि की बकवास सुन सुन कर बढ़ी थी और जब यही भाषा मैंने अरूणकांत जी के लेख में पढ़ी तब फिर रहा नहीं गया । मैंने इस लेख में विस्तार से न्यायालय का ही पक्ष रखा है ताकि अगर किसी को कोई गलत फहमी हो तो वह दूर हो जाये । आप प्रबुद्धजनों की टिप्पणी से मेरे पक्ष का दृढता मिली इसके लिये आभारी हूं ।

के द्वारा:

आदरणीय मिश्र जी ! मुझे समाचार पत्र में मुलायम सिंह का बयान देखकर उनपर इतना क्रोध आया की क्या बताऊँ..... मुलायम सिंग अभी से अपनी रोटी सेंकने के लिए जनमानस को दिग्भ्रमितकर समाज को दंगो में धकेलने के पूरे प्रयाश में दिखे .......... अब उनकी विचार धारा के अनुसरणकर्ताओं का ख्याल भी वही है, वो स्वयं स्वार्थसिद्धि के लिए देश को किसी भी गर्त में फेंक सकते हैं, वो न समाज और व्यवस्था को उचित दिशा में जाते देखना चाहते हैं | ये आते गोलियों में उलझाकर मचलियाँ मारने वाले मछुवारे हैं ......... आपके तथ्यपरक लेख के बाद हो सकता है उनको अच्छा न लगे....... परन्तु आपका लेख जनमानस की आवाज है ....... आपके राष्ट्रवादी लेख के आपका आभार वन्देमातरम ............ की भाषा

के द्वारा: Shailesh Kumar Pandey Shailesh Kumar Pandey

आदरणीय मिश्र जी दिन में ही इस पोस्ट को देखा मैंने पर बहुत आकस्मिक वजह से जाना पड़ा अतः देर से पढ़ा मैंने... अरुणकांत जी मुलायम सिंह की ही भाषा बोल रहे है....,उन्हें कांग्रेस प्रवक्ता रशीद अल्वी साहब का वक्तव्य पढना चाहिए था जहा वे कहते है ... की वह ईमारत मुसलमानों के लिए इतनी महत्वपूर्ण नहीं थी ,,बल्कि केवल उनके लिए महत्वपूर्ण थी जो उस ईमारत के नाम पर रोजी रोटी चला रहे थे , जब वह मस्जिद थी ही नहीं तो बार बार मस्जिद ढहाने की बात कह कर तो ये लोग शायद भड़काने की ही शाजिश कर रहे है.... और मै ये कहना चाहता हु की इतिहास की अल्प जानकारी रखने वाला भी ये जानता है की कैसे मध्यकालीन इस्लामिक आतंकवाद ने हिन्दू मानबिदुओ को अपना निशाना बनाया ... लेकिन भारत की सनातन परंपरा इतिहास बनाती है इतिहास में जीती नहीं है... ये पूरा विश्व जानता है .............. कमुनिश्तो ने सनातन परंपरा की जो तस्वीर प्रचारित की है इसके लिए तो वे राष्ट्र द्रोह के अपराधी है... उनपे राष्ट्रीय सुरक्षा क़ानून लग्न चाहिए... ये छद्म सेकुलर वादियों ने तो आजादी के बाद से सँभालने नहीं दिया.... एक बात समझ में क्यों नहीं आती... इन बरसाती मेढ़को को.. की वह ढाचा एक धार्मिक ईमारत नहीं था .. 500 वर्षो से हिन्दुओ ने अपने सनातन परंपरा के आराध्य पुरुष आदर्श पुरुष राम के स्थल के रूप में मान्यता दिलाने की लडाई लड़ी है... तो वह कौन सी कोर्ट हो सकती है कौन सा कानून हो सकता है जो देश के 90 करोण लोगो की भावना को लात मार दे .. अगर कोई कानून ऐसा करता है.. तो वह कानून नहीं जंगल राज है... मै दावा कर सकता हु... की कोई भी कोर्ट इससे बेहतर निर्णय दे ही नहीं सकती थी... यद्यपि यह एक समझौता है .. लेकिन फिर भी अगर बात दिलो को जोड़ने की है तो हिन्दू हमेशा आगे आकर हाथ बढ़ता है.. अब फिर गेंद दुसरे पक्ष के हाथ में है... वो कोर्ट के इस आदेश के भाव को समझते हुए .. किस हद तक निर्णय ले सकता है.................. क्योकि कोर्ट का निर्णय तो स्पष्ट रूप से हिन्दू भावनाओं की ही बात कर रहा है... ?

के द्वारा: NIKHIL PANDEY NIKHIL PANDEY

आदरणीय मिश्रा जी, सादर वन्दे मातरम आपके इस तथ्यपरक पोस्ट को पढने के बाद न जाने कितने कुतर्की कम्युनिस्टों की नीद उड़ गयी होगी..लेकिन ये कम्युनिस्ट इतने दुराग्रही जीव होते हैं की अगर इनकों लतियाया भी जाय तो बेशर्मों की तरह अपनी ही ही करने और राष्ट्र और राष्ट्रीयता का मखौल उड़ने फिर चले आते हैं..तर्कों और तथ्यों के विरुद्ध कुतर्क गढ़ना कोई इन जयचंदों से सीखे...लेकिन इतना तो है की अब वे दो चार दिनों तक खामोश रहेंगें...सच पूछिए तो कभी-कभी हमें इनके बचकाने कुतर्कों से हंसी भी आती है और सोचता हूँ की शायद इनका मानसिक स्तर jean piaget द्वारा बताये गएँ sensorymotor स्तर से अधिक नहीं हो पाया है...बेहतरीन पोस्ट के लिए आभार ...एक व्यंगकार का रौद्र रूप अब दिखने को मिला है...बधाई हो...जय भारत...जय भारती

के द्वारा: atharvavedamanoj atharvavedamanoj

डेनिएल जी और मिश्र जी[प्रबुद्ध जन],आम आदमी हिन्दू हो या मुसलमान शांति चाहता है चूँकि वह रोजी-रोटी की समस्या से रोज दो-चार होता है और विकास भी शांति से होता है ,अयोध्या मुद्दे पर उच्च-न्यायलय की लखनऊ बेंच द्वारा दिए गए फैसले से आम आदमी और हिन्दू-मुसलमान सभी संतुष्ट हैं चूँकि इसने न तो मुसलमानों और न ही हिन्दुओं को निराश किया है,फैसला आने के पहले और बाद में मुस्लिम और हिन्दू नेताओं की प्रतिक्रिया भी परिपक्व रही जिन्होंने भावनाओं को भड़काने की बजाय उन्हें शांत करने का ही कार्य किया और सरकारों ने स्थानीय शरारती तत्वों से निबटने के माकूल इंतजाम किये वैसे भी जनता ने तो दंगों की विभीषिकाओं से काफी कुछ सीखा है लेकिन तथाकथित छद्म-धर्मनिरपेक्ष कचरे ने न तो कुछ सीखा है और न ही ये जनता के बदलते मूड को समझ पा रहे हैं,और इसीलिए सत्ता से बहार होने की खीझ उन्हें भड़काऊ भाषण देने को बाध्य करती है लेकिन इस तरह ये नेता अपनी जमीन और खोते चले भी जायेंगे और खोते जाना भी चाहिए,मुलायम सिंह के बयान पर फिरंगी महली मदनी ने उन्हें लताड़ भी पिलाई,वैसे हासिम अंसारी जी सुलह की जो कोशिश कर रहे हैं वह सफल होनी चाहिए,लेकिन वह तभी सफल हो सकती है जब उसे राजनीतिक हस्तक्षेप से मुक्त रखा जाकर सिर्फ उदार धार्मिक लोग उसकी ईमानदार कोशिश करें ,शिया टाइगर फोर्स ने मंदिर निर्माण के लिए धन देने की बात कही तो दिल खुश हुआ, वैसे मेरा मानना है हमें इतिहास के दुखद अध्यायों को भूलकर भविष्य का सोचना चाहिए,अगर इतिहास से सीखना है तो जोडनेवाली चीजें सीखें जैसे फ्रांस में पुनर्जागरण के समय हुआ था,हम भारतीयों के लिए मंदिर और मस्जिद का निर्माण कितना भी जरूरी हो लेकिन भारत का निर्माण सबसे ज्यादा जरूरी है,क्या अच्छा हो कि अयोध्या में मंदिर निर्माण के लिए मुसलमान भाई तन-मन धन से सहयोग करें और मस्जिद निर्माण के लिए हिन्दू भाई फिर उसी तरह कि कारसेवा करें जिसने मुसलमान भाइयों के जख्म हरे किये थे,में कहती हूँ भारत निर्माण कि दिशा में यह मील का पत्थर साबित होगा और मैं स्वयं मस्जिद निर्माण के लिए सहयोग करने को तैयार हूँ,कल मैं आरती की घंटी सुधरवाने एक मुसलमान मिश्त्री के पास ले गयी,घंटी ठीक करके उसने मेहनताना लेने से यह कहकर मना कर दिया कि यह पूजा [इबादत] की चीज है,दिल धन्य हुआ,मंदिर-मस्जिद की बजाय भारत बनाओ,

के द्वारा:

मिश्र जी आपका लेख सब हिंदूंऔ के लिए राहत देने वाला है... अपने बहुत विस्तार से सब जानकारी दी है ... अयोध्या फैसला दुर्भाग्यपूर्ण कहने वाले देश में शांति और प्यार नहीं देख सकते.. तबी तो ऐसा कहते है ... यहाँ पर मै एक टी.व् चैनल की बात करना चाहगी की जब अयोह्या का फैसले का सब को इंतज़ार था तो एक रिपोर्ट ने कहा की हिन्दू राम मंदिर ले लिए लड़ रहे है मगर ये नहीं देखते की बाबर ने अयोध्या में कितने मंदिरों का निर्माण किया था ....... क्या ये कहना हिन्दुओं की भावना से खिलवाड़ नहीं ? क्या इससे हमे उनका शुकार्गुज़र होना चाहिए??? एक बहार का राजा हमारे देश में हमारी ही भूमि में हमारा ही मंदिर तोड़ क्र एक मस्जिद खड़ी करता है ... और बदले में कही और मंदिर बना देता है तो वोह महान हो गया ..... जो भी हो मुग़ल अपने साथ जमीं लेकर नहीं आये थे ...... ये हमारा देश है हमारी राम भूमि है ....... फिर चाहे कितने विदेशी आ जाये .... हम अपना मान उन्हें नहीं दे सकते...... ये देश ये लोग ये सब हम भारतवासियों का है तो भारती बन कर सोचा जाये न की पाखंडी सेकुलरवादियों की तरह अच्छे लेख पर बधाई

के द्वारा: roshni roshni

डैनियल जी सादर वंदेमातरम ! आपनेे लेख में दिये गये तर्कों को सराहा इसके लिये आभारी हूं । आदरणीय अरूणकांत जी का मैं बहुत आदर करता हूं । आपकी यह बात भी सही है कि मेरी भावनाओं को ठेस पहुंची है । लेकिन इसके साथ साथ करोड़ों हिंदुआंे की भावनाओं को भी ठेस पहंुची है । मुल्ला मुलायम सिंह का बयान था कि मुस्लिम ठगा महसूस कर रहे हैं । 85 करोड़ हिंदू जब अपने आपको ठगा महसूस करते तब इनकी छाती को ठंडक पहुंचती । मेरा यह आक्रोश उन सभी पाखंडी सेकुलरवादियों के प्रति है जिन्होंने न कभी राम को माना है और न रामजन्मभूमिमंदिर के 500 वर्षों के संघर्ष को । अब जब कोर्ट ने बहुमत से ऐतिहासिक तथ्यों और साक्ष्यों पर मुहर लगा दी है तब इनकी छाती पीटन रूदन को देख कर स्वंय मुस्लिम समुदाय भी चकित हैं कि क्या वास्तव में औरंगजेब की जायज संतान यही हैं । मैं सभी पाखंडी धर्मनिरपेक्षवादियों को आमंत्रित करता हूं कि वो आयें और तर्क करें । मैं उन्हें गलत साबित कर दंूगा । जय हिंद ।

के द्वारा: kmmishra kmmishra

आदरणीय मिश्रा जी ! आपके दिए हुए प्रमाणों /तर्कों में यह बहुत सटीक लगा :~ जौनपुर की लाल दरवाजा मस्जिद 1447 ई0 में बनी । इसमें बनारस के पद्मेश्वर मंदिर के 1296 ई0 के एक पत्थर का एक लेख मिला जिससे पता चलता है कि 1447 के पहले ही पद्मेश्वर मंदिर को तोड़कर लाल दरवाजा मस्जिद बनी । लेख इस प्रकार है : तस्यात्मजः शुचिर्धीरः पद्मसाधुरयं भुविए काश्यां विश्वेश्वर द्वारि हिमाद्रिशिखरोपमं । पद्मेश्वरस्य देवस्य प्राकारमकरोत्सुधीःए ज्येष्ठे मासि सिते पक्षे द्वादश्याम्बुधवासरे । लिखिते में सदा जाति प्रशास्त्रि प्लववत्सरे संवत् 1353 । अरुण कान्त जी की पोस्ट का जवाब देने में आपने जो मेहनत की है इसकी जितनी भी सराहना की जाए कम है । लेकिन एक बात मैं आपसे कहना चाहूँगा कि अपनी पोस्ट में आपने अरुण कान्त जी के लिए बहुत कठोर शब्दों का प्रयोग किया है, यदि आप इन शब्दों के बिना भी लिखते, तो भी आपकी बात के असर में कोई कमी नहीं आती । मैं जानता हूँ कि आपकी भावनाओं को ज़रूर ही भारी ठेस पहुंची है तभी आपके शब्दों में इतनी कठोरता है:~ १.धर्मनिरपेक्षता का पाखंड करना कुछ लोगों का मौलिक अधिकार है । २.यह कह कर आप देश की शांति व्यवस्था से खेल रहे हैं और एक पक्ष को उकसा रहे हैं और देश को दंगों की आग में झोकने की तैयारी कर रहे हैं । यदि इस लेख को लिखने के बाद आपका मन शांत हो गया हो ,तो कृपया अपने लेख से तीसरे शब्द श्रद्धेय को हटा दीजिये । क्योंकि आपका लेख इस शब्द का कुछ और ही अर्थ प्रस्तुत कर रहा है । ***आपका मन शांत हो इस शुभकामना के साथ ***

के द्वारा: daniel daniel

अजय जी सादर वंदेमातरम ! आपने ठीक कहा सिवाय ऑपरेशन के कोई चारा नहींण् देर सवेर यह कठोर कदम तो उठाना ही परेगाण् अब सर्जरी में कुछ तो खून बहेगा ही । आज श्रीलंका को देखिये । लिट्टे कई दशकों से लंका में गृहयुद्ध की स्थिति बनाये हुये थे । महेन्द्रराजपक्षे ने देखा कि कोई भी देश उनकी मदद को तैयार नहीं है । सब लंका की आग में हाथ ताप रहे थे । तब महेन्द्रराजपक्षे सरकार ने अपने ही खून से महावर रची और पूरी फौज लगाकर लिट्टे को नेस्तनाबूद कर दिया । आज लंका में शांति है । यही काम भारत सरकार को भी करना चाहये । सरकार ने किया भी है, पंजाब सबसे बड़ा उदाहरण है । शांति की बात उससे जो शांति की भाषा समझे जो न समझे वो उसकी भाषा में समझाईये ।

के द्वारा: kmmishra kmmishra

पाण्डे जी सादर वंदेमातरम ! आपने सही कहा आज लोकतंत्र, मानवाधिकार, अभिव्यक्ति की आजादी इन आधुनिकयुग के सिद्धांतो का प्रयोग मध्युगीन मानसिकतावादी तथाकथित बुद्धिजीवी हथियार की तरह धड़ल्ले से कर रहे हैं । जरूरत है इनको इन्हीं के हथियार से मात देने की । मैं आवाहन करता हूं विधि, समाजशास्त्र, इतिहास और समाजिक विज्ञान के विशेषज्ञों को कि वे आयें और इस बहस में अपने ज्ञान की धारदार तलवार से इनके कुतर्कों के चिथड़े उड़ा दें । देश पहले आता है सिद्धांत बाद में आते हैं । आपको जान कर हैरानी होगी कि जिन कम्युनिस्टों ने जिन्ना का सर्मथन किया था उनके पास भी देश के बंटवारे के लिये एक सिद्धांत था । जय हिंद ।

के द्वारा: kmmishra kmmishra

""खिड़की तो यकीनन खुली । अब देखना है कि उसमें से पत्थर बरसते हैं या आग के शोले"", आदरणीय मिश्र जी सही बात कही है कश्मीर जिसे देश का नेतृत्व अपने आत्मबल से सुलझा सकता है उसे जानबूझकर यक्ष प्रश्न बनाकर लटकाने का काम हुआ है ... ये अलगाववादी पत्थर तो कांग्रेस ने ही उनके हाथ में पकडाए है उनके सामने बार - बार गिडगिडा कर ..और जिस खिड़की की बात हो रही है वो तो हमेशा से हमने खोले रखी थी ... पर उधर से तो केवल आग और पत्थर ही बरसते रहे... ..ये सोचना चाहिए था हमें की खिड़की को खोलने से पहले पत्थर बाजो को किनारे कर दिया जाये क्योकि वे बात से नहीं मानते . जब ये बात समझ में नहीं आ रही है तो सर तो फूटेगा ही ........ आज ये गाना क्यों गा रहे है......... ""जबसे हम तबाह हो गए . तुम जहापनाह हो गए "" जब ये राग अलापेंगे तो सजदा तो करना ही पड़ेगा भले बार बारे पीछे से लात पड़े ... हमेशा की तरह आपका जबरदस्त लेख है

के द्वारा: NIKHIL PANDEY NIKHIL PANDEY

बाजपेई जी आपने बहुत सही कहा । कश्मीर के इतिहास से आम भारतीय परिचित नहीं है । इसके पीछे भी सरकार की नीतियां ही काम कर रही हैं । वो चाहते हैं कि आम भारतीय कश्मीर को विवादित भाग मान कर शांति के लिये कश्मीर भूल जाये । कश्मीर का इतिहास बहुत लंबा है । कल्हड़ ने अपने विशाल ग्रंथ राजतरंगिणी मे कश्मीर के इतिहास को बहुत ही विस्तार से लिखा है । वो कश्मीर का इतिहास द्वापर युग से शुरू करते हैं जब कृष्ण ने कश्मीर आकर यहां अपने भक्त को राज्य स्थापित करने में मदद की थी । जिन नेहरू की बचकाना नीतियों ने कश्मीर को आज नासूर बना दिया है उनके जीजा और विजय लक्ष्मी पंडित के विद्वान पति स्व0 रणजीत पंडित ने ही सबसे पहले राजतरंगिणी का अंग्रेजी में अनुवाद किया था (वह एक बड़ा मजेदार किस्सा है) फिर उसके हिंदी और दूसरी भाषा में अनुवाद हुये । बड़ी जल्दी ही कश्मीर का लंबा इतिहास आप सभी को पढ़ने को मिलेगा ।

के द्वारा:

के द्वारा: दीपक जोशी DEEPAK JOSHI दीपक जोशी DEEPAK JOSHI

के द्वारा: chaatak chaatak

प्रिय मिश्र जी, श्री नरेश मिश्र जी के विचारों को मंच पर रकने का कोटिशः धन्यवाद ! यहाँ मैं श्री नरेश मिश्र जी का आभार भी प्रकट करना चाहूंगा जो वे हमारे लिए इतिहास में कालापानी की सजा काट रहे तथ्यों पर प्रकाश डाल कर हिन्दुस्तानियों को आज़ादी के समय से लेकर आज तक की राजनैतिक लिप्सा और कमजोर चरित्र वाले नेताओं की करतूत बता रहे हैं | सच तो ये है कि कुछेक बुद्दिजीवियों को दर से आज भी इतिहास से कुछ पन्ने सुरक्षित बचे हैं वर्ना कांग्रेस कब की दीमक बनकर उन पन्नो को भी चाट जाती | काश्मीर कभी भी समस्या का सबब रहा ही नहीं काश्मीर को तो समस्या बनाया गया नेहरु ने फुंसी को जन्म दिया और उनके उत्तराधिकारियों ने उसे नासूर बना दिया | एक तरफ ये मुसलमानों के जज़्बात से खेलते रहे और उन्हें महज़ वोट बैंक बना कर रखा और दूसरी तरफ हिन्दुओं की सहिष्णुता का फायदा उठाते हुए नेहरु ने अपने नाम के आगे आजन्म पंडित लगा कर उनकी जड़ों में भी मट्ठा डालने का काम किया| ऐतिहासिक तथ्यों के साथ कश्मीर मुद्दे पर सरकार की कलुषित मानसिकता को उजागर करने के लिए आप को व श्री नरेश मिश्र जी को हार्दिक धन्यवाद!

के द्वारा: chaatak chaatak

के द्वारा: kmmishra kmmishra

डैनियल जी वंदेमातरम ! आपकी तरह ही अब भारत के कुछ लोग और सोचने लगे हैं । इसमें आप की कोई गलती नहीं है । पिछले 6 साल से सरकार की कश्मीर पर जो नीति रही है उसके कारण ही कश्मीर आज जल रहा है । आम भारतीय शांति चाहता है । यूपीए सरकार एक नपुंसक सरकार है ऊपर से उसके साथ रहने वाली पार्टियों की विचारधारा भी कायरतापूर्ण है । अभी कश्मीर में गये प्रतिनिधिमण्डल में शामिल कुछ लोग तो मात्र बिहार और बंगाल चुनाव में मुस्लिम मतों को समेटने के लिये वर्ता से इंकार कर चुके अलगाववादियों के घर पर सिजदा करने चले गये। पाकिस्तान बनाने के लिये जिन्ना को समर्थन देने वाले कम्युनिस्ट तो आज भी कश्मीर पाकिस्तान को भेंट करने को आतुर हैं । ये लोग ईंट का जवाब पत्थर से न देकर शांति का राग अलापने लगते हैं और जनमानस में यह संदेश जाता है कि कश्मीर कभी साल्व नहीं हो पायेगा । पर ऐसा है नहीं । कश्मीर गले की हड्डी नहीं है भारत मां का मुकुट है और यह बात भी सरासर गलत है कि वहां के मुसलमान भारत के साथ नहीं रहना चाहते हैं । अगर ऐसी बात है तो दो साल पहले उन्होंने चुनाव में हिस्सा क्यों लिया था । 60 प्रतिशत वोटिंग हुयी थी कश्मीर में । फिर कश्मीर घाटी जम्मू कश्मीर का मात्र 20 प्रतिशत हिस्सा है । 80 प्रतिशत भाग तो जम्मू और लद्दाख है । मात्र 1 या 2 प्रतिशत अलगाववादियों के भौंकने पर सरकार ने उनके सामने घुटने टेक दिये । आपके घर में मच्छर अधिक हो जाते हैं तो आप क्या करते हैं । पहले फिनिट छिड़कते हैं और घर के दरवाजों और खिड़कियों में जाली लगाते हैं ताकि अंदर वाले खत्म हो जायें और बाहर से दूसरे न आयें । कश्मीर में भी यही करने की जरूरत है । आम कश्मीरी अमन पसंद है और वह भारत को अपना देश मानता है । आप निराश न होईये । जरूरत है हम सब को सरकार पर दबाव बनाने की जैसे मुंबई हमले के वक्त बनाया गया था । लोकतंत्र में लोक की आवाज को दबाया नहीं जा सकता है ।

के द्वारा: kmmishra kmmishra

काका प्रणाम । सही कहा आपने । जिस समस्या को आसानी से 48, 65, 71 में सुलझाया जा सकता था आज उसकी हम भारी कीमत चुका रहे हैं । पाकिस्तान भी अच्छी तरह जानता है कि भारत से सीधा युद्ध लड़ा तो एक पखवाड़े में ही काम तमात हो जायेगा इसीलिये वह हमें कश्मीर में और मुंबई हमले जैसे जख्म देता रहता है । लातों के भूत को बातों से मनाने की कोशिश हो रही है । कुछ तथाकथित बुद्धिजीवी हमेशा वार्ता की भाषा बोलते रहते हैं । अगला वार्ता करना ही नहीं चाहता । यह आप कब समझेंगे । सांप पालेंगे तो दिन प्रति दिन उसका जहर बढ़ता जायेगा और एक दिन वह डसे का प्रयास भी करेगा । ये सांप तो रोज डस रहा है पर जिनकी आंखों पर शांति की पट्टी चढ़ी है उन्हें न मुंबई हमला याद आता है, न कश्मीर, न भारत में फैलते सिमि और इंडियन मुजाहिदीन जैसे संगठन ।

के द्वारा: kmmishra kmmishra

जागरण मंच के प्रबुद्ध पाठकों ! राजनीति मेरा विषय कभी नहीं रही , फिर भी कश्मीर जैसे संवेदनशील मुद्दे पर अपने विचार रखने की हिमाकत कर रहा हूँ............. अगर कोई गलती हो जाय तो क्षमा करें !! कश्मीर के अधिसंख्य मुसलमान भारत के साथ भावनात्मक रिश्ता नहीं रखते, वही आम भारतीय कश्मीर के प्रति बहुत ही भावनात्मक विचारों / संवेदनाओ से ओत प्रोत है और वे इसे राष्ट्रीय स्वाभिमान से जोड़ कर देखते है ! अब जबकि कश्मीर के मुसलमानों में भारत से अलग होने की जो भावना बैठ चुकी है, उसे कोई नहीं निकलनहीं पायेगा !! कश्मीर पर कितना ही धन खर्च कर दिया जाये, कोई भी अर्थ्रिक योजना लागू की जाये, उससे कोई फायदा होने वाला नहीं ! कश्मीर हमरे गले में हड्डी तरह फंस गया है जो न निगलते बनता है न उगलते..........

के द्वारा: daniel daniel

सेकुलर को मुस्लिम वोट बैंक आसानी से हासिल नहीं होता । उसके लिये देश को दांव पर लगाना पड़ता है । परम आदरणीय मिश्र जी, उपरोक्त वाक्यांश को कोट करने का कारण स्पष्ट है. राजनीति का विद्रूपतम रूप उसकी वोटपरस्ती में दिखता है. कश्मीर संकट हो या नक्सली आतंकवाद ये सभी उसी स्वार्थपरक राजनीति के परिणाम हैं. और इनकी चालबाजी देखिए कि कैसे बड़े आराम से ऐसे मुद्दों को आराम से मानवाधिकार, लोकतंत्र और अभिव्यक्ति की आजादी का हवाला दे के अपने फायदे के लिए इस्तेमाल कर लेते हैं. एक सशक्त जनजागरुकता की जरूरत अपरिहार्य है और राष्ट्र की आत्मा का और चीरहरण हो इससे पूर्व ही आंखें खोलना लेनी होंगी. यकीनन दुश्मन बाहरी नहीं बल्कि ये भितरघाती ही हैं जिनसे प्रत्यक्ष खतरा है. देश रो रहा है और ये तबाही का उत्सव मना रहे हैं.

के द्वारा: rkpandey rkpandey

कश्मीर मेरे देश का ऐसा एक ऐसा स्वर्ग है कि सारी दुनिया उसके भूभाग पर अपना प्रभाव देखने के लिए उतावली है . मेरे विचार से सबसे पहले भारत को सारी दुनिया को बतला देना चाहिए कि पाकिस्तान से कोई भी बात हम तभी करेगे जब वो भारत को धोका देकर कश्मीर का जो विशाल भूभाग को दबाये बैठा है पहले उसे खाली करे. पूरा विश्व जनता है और अगर नहीं जानता तो भारत का भारत के हर उस व्यक्ति का यह पहला दायुत्य बनता है कि वो हर संभव माध्यम (लेखनी , कला, हिंदी, अंग्रेजी साहित्य, कविता, कहानी, नाटकों, लेख, आदि ) के माध्यम से पूरी दुनिया को बिना और समय खोये यह बतलाना शुरू करे कि कैसे झूठ का सहारा ले पाकिस्तान ने एक भूभाग को दबा रखा है और उसी भूभाग पर पूरी दुनिया के विनाश कि फसल पर फसल पिछले साठ सालों से बो रहा है. अगर विश्व ने इसे पहचानने मे और देर कि तो एक दिन यह फैलती आग उस देश को भी निगल लेगी जो इसे हवा दे रहे है. रवीन्द्र के कपूर

के द्वारा: ravindrakkapoor ravindrakkapoor

के द्वारा: atharvavedamanoj atharvavedamanoj

महान समाज सुधारक मर्यादा पुरुषोत्तम श्री बाबर जी महाराज । चातक जी वंदेमातरम । आपने सेकुलर इतिहासवेत्ताओं के कानों को मधुर लगने वाला सम्बोधन बाबर को दिया है । हम जो इतिहास पढ़ते हैं उसमें कहीं भी मध्यकालीन युग की बर्बरता पढ़ने को नहीं मिलेगी । मगर अगर उसी वक्त के समकालीन इतिहासकारों ने मुस्लिम इतिहासकारों और यूरोपियन यात्रियों और इतिहासकारों ने इस विध्वंस और बर्बरता का जिक्र किया है । इस्लामिक काल में हजारों हजारों मंदिर तोड़ दिये गये तो कुछ बुरा न माना गया क्योंकि इस्लाम काफिरों का धर्म परिवर्ततन करने की और बुतों को तोड़ने की इजाजत देता है मगर एक बाबरी मस्जिद तोड़ दिये जाने पर हजारों साल से समन्यवादी सहिष्णु हिंदू कौम कम्युनल हो जाती है क्योंकि हमारे यहां किसी भी धर्म के धार्मिक स्थल को तोड़ने की मनाही है । उसके बाद न सिर्फ पाकिस्तान और बंग्लादेश में बल्कि भारत में भी सैंकड़ों की संख्या में मंदिर तोड़ दिये गये तब भी अगला कम्युनल न हुआ । इट्स हैप्पन ओनली इन इंडिया ।

के द्वारा: kmmishra kmmishra

आदरणीय दुबे जी वंदेमातरम ! आपने ठीक कहा कि आज एन सी ई आर टी की इतिहास की किताबों में मध्यकालीन भारत को बहुत ही गरिमामय तरीके से वर्णित किया गया है । मेरे कुछ परिचित इलाहाबाद विश्वविद्यालय के मध्यकालीन इतिहास विभाग के प्रोफेसर हैं । उनसे इधर चर्चा के दौरान पता चला है कि तमाम नये शोधकार्य और इतिहास लेखन का काम औरंगजेब को सेकुलर घोषित करने के लिये किये गये है और किये जा रहा है । उसके द्वारा तोड़े गये मंदिरों का कारण धर्मांधता नहीं बल्कि राजनैतिक था यह सिद्ध किया जा रहा है । इस सबके पीछे आजादी के बाद इतिहास लेखन मे नेहरू जी की सोच काम करती है । आजादी के बाद कम्युनिस्ट विद्वानों को इतिहास लेखन का काम सौंपा गया जिन्होंने ने इतिहास को अपने नजरिये से देखा । यह तो सबको मालूम ही है कि भारतीय कम्युनिस्टों की वफादारी सदैव से ही चीन और सोवियत रूस के साथ रही है । भारत का विभाजन क्यों होना चाहिये इसके लिये भी इनके पास तब एक फुलप्रूफ सिद्धांत था । इनको भारत की अखण्डता से कोई मतलब न था । इनको सोवियत संघ से आयातित अपने सिद्धांतों की पड़ी थी । इसलिये इन्होंने जिन्ना को खुला सर्मथन दिया । इनकी निगाह में कम्युनल सिर्फ हिंदू होता है । नेहरू जी ने इनको इतिहास लेखन क काम सौंप कर बहुत बड़ी गलती की । जिस तरह अंग्रेजों का एक ही लक्ष्य था - भारतीय को उनके गौरवमयी इतिहास की जानकारी न होने दो वही लक्ष्य इनका भी था । अब आप देखें कि भारत का इतिहास प्राचीन इतिहास में हड़प्पा और मोहनजोदड़ो से शुरू होता है । ठीक है । लेकिन यह इतिहास हम पिछले कई दशक से पढ़ते आ रहे हैं । इसमें हाल के वर्षों में हुयी खोजों का कोई जिक्र नहीं है । प्राचीन इतिहास में हमारे गौरवमयी क्षणों को एडिट कर दिया गया लेकिन मध्यकालीन इतिहास को मैग्नीफाई करके वर्णित किया गया । वह भी भारत पर आक्रमण करने वालों का यशोगान करते हुये । मराठों और राजपूतों की वीरता को तुच्छ दिखाया गया लेकिन औरंगजेब महान हो गये । आधुनिक इतिहास में सिर्फ और सिर्फ कांग्रेस है और गांधी-नेहरू । आधुनिक इतिहास के तामम दूसरे स्वतंत्रता सैनानियों को एक एक पैरे में समेट दिया गया जैसे उनका योगदान कांग्रेस के आगे समुद्र के आगे बूंद । जिन कम्युनिस्टों ने नेताजी सुभाष चंद्र बोस को कुत्ता कहा हो वे इतिहास लेखन में कितनी ईमानदारी बरतेेंगे इसका अनुमान तो एक बच्चा भी लगा सकता है । इतिहास को लेकर तमाम षडयंत्र रचे गये । एन डी ए की सरकार में जब मानव संसाधन मंत्री डा0 मुरली मनोहर जोशी ने इन सबको इतिहास लेखन के काम से बेदखल कर दिया तब ये माननीय सुप्रीम कोर्ट की शरण में गये और माननीय सुप्रीम कोर्ट ने भी इनके तर्कों को नकार दिया था । तब ये मीडिया में भगवा इतिहासकरण का रोना रोने लगे । आज भारत में जो सरकारी इतिहास है वही असली इतिहास है । अगर आप इससे जरा सा भी इधर उधर हुये तो किसी भी प्रतियोगिता में नंबर न पायेंगे । पूरी की पूरी पीढ़ी को भटकाने का प्रयास किया जा रहा है । इतिहास के नाम पर सिर्फ मध्यकाल है और उसके बाद कांग्रेस और गांधी-नेहरू ।

के द्वारा:

इब्न का अर्थ होता है बेटा । महमूद गजनवी सुबुक्तगीन का बेटा था । उसको मुहम्मद गजनवी कहना ठीक नहीं है । टिप्पणीकार ने उसका पूरा नाम लिखा है जो सही है । लेकिन हम मोहम्मद को गजनवी के साथ मिलाना ठीक नहीं समझते । महमूद गजनवी के बारे में ज्यादातर बयान मुस्लिम इतिहासकारों ने लिखे हैं । वे अपने शासक और इस्लाम की तारीफ में बढ़ा चढ़ा कर लिखने को उत्साहित थे । इसलिये उनके बयानों को पूरी तरह प्रमाणिक मान लेने का कोई मतलब नहीं है । मैंने जिन पुस्तकों का हवाला दिया है (फिरदौसी लिखित ‘शाहनामा’ और कन्हैयालाल माणिकलाल मुंशी द्वारा लिखे गये कई खण्ड में ग्रंथ ‘गुजरात के नाथ’ । कन्हैयालाल माणिकलाल मुंशी सिर्फ एक कांग्रेसी नेता ही नहीं थे वे उच्चकोटि के विद्वान और इतिहासवेत्ता भी थे ।) उन्हें पढ़ने पर सोमनाथ विध्वंस के सम्बन्ध में संतुलित जानकारी मिल सकती है । मैं एक और पुस्तक ‘कससे हिंद’ का उल्लेख करना चाहता हूं । इस पुस्तक के लेखक एक मुस्लिम इतिहासकार हैं । उन्होंने कई खण्ड में यह किताब लिखी है । महमूद गजनवी का जो कथन मैंने उद्धृत किया है उसे इस किताब में देखा जा सकता है । मुस्लिम इतिहासकारों का यह विवरण हास्यास्पद है कि मुहमूद गजनवी सिर्फ 5000 सैनिकों के साथ सोमनाथ मंदिर तोड़ने के लिये निकला था और 50000 हिंदुओं ने उसका विरोध नहीं किया । मैं पहले भी निवेदन कर चुका हूं कि आक्रमणकारी गजनवी का विरोध किया गया था और उस दौरान बहुत से हिंदुओं ने अपने प्राणों की आहुति दी थी । अगर कोई मुस्लिम इतिहासकारों के बयानों को हर्फ ब हर्फ मंजूर करने की जेहनियत रखता है तो उसे समझाया नहीं जा सकता है । इस्लामी फौज के अंदर मजहबी जुनून था । जुनून के आगे संख्याबल हमेशा नाकाम साबित होता है । खासतौर से जुनून अगर मजहब से जुड़ा हो तो उसकी ताकत दोबाला हो जाती है । महमूद गजनवी के सम्बन्ध मे इमानदारी से विवेचना करने की जरूरत है । मंदिरों को तोड़ने में आर्थिक लालसा के अलावा उसका मजहबी जुनून एक बड़ा कारण था । नरेश मिश्र

के द्वारा:

आदरणीय मिश्र जी, आपके हास्य व्यंग लेखन का तो मै हमेशा से ही कायल रहा हूँ. लेकिन जिस तरह से आपने रास्त्रहित जैसे मुद्दे को जिस बेहतरीन तरीके से उठाया है है वो काबिलेतारीफ है आप से पहले इन विषयों पर मैंने बहुत से आलेख पढ़े पर आप पहले शख्स है जिन्होंने इसे बहस का स्वरुप दिया और एक सार्थक परिणाम ये हुआ की लोग क्या सोचते है और उनका नजरिया क्या है और यदि वो गलत है तो क्यों है का आभास हुआ .कितनो लोगो ने अपने नजरियों को रखा जो की किसी द्वारा सुनी हुई या अप्भ्रन्सित है, जैसे की सोमनाथ आक्रमण के बारे में, तुलसीदास के बारे में ,अयोध्या के बारे में , काशी विश्वनाथ के बारे में इत्यादि, ये उनका अल्पज्ञान नहीं है वरन यह एक सोची समझी साजिश का परिणाम है यह ठीक वैसे ही है जैसे की हिटलर को क्रूर करार दिया गया और उसी कालखंड के नागासाकी और हिरोशिमा के दोषियों का नाम हम और आप नहीं जानते है .विदेशी इतिहासकारों ने अपने मन मुताबिक इतिहास से छेड़छाड़ की.हमारे यहाँ भी उसी तरह के लोग मौजूद है आपने एन सी आर टी की किताब तो पढ़ी ही होगी उठा कर देखिये बाबर, अकबर, औरंगजेब की महानता के इतने किस्से मौजूद है की खुद बाबर भी सरमा जाये, और गीता प्रेस सम्प्रदायक है, आशा करता हूँ की पूज्यनीय नरेश मिश्र के सानिध्य में रहकर ये मिश्र द्वय हमें इसी तरह से इतिहास से अवगत करते रहेंगे.

के द्वारा:

ये सोच समझ से परे है की की कश्मीर की बात पर हम क्यों कुछ पाकिस्तान परस्त अलगावादी नेताओ से दोस्ती के लिए हाथ बढ़ाते है जिन नेताओ को जेल क अन्दर होना चाहिए उन् से दोस्ती करना न सिर्फ गलत है यह आत्मघाती भी है आज उन चंद देशद्रोहियों की वजह से कश्मीर अवाम गुमराह हो रही है कश्मीर की तरक्की रुकी है कस्मीयत की बात करने वाले ये चंद नेता कश्मीर क नाम पर अपनी राजनितिक रोटिया सेक रहे है यह कहने की जरूरत नहीं है की कश्मीर भारत का अभिन्न अंग है क्योकि यह सदियों से भारत का अंग रहा है और सदियों तक रहेगा जिस भूमि को हमारे सहिदो ने अपनी खून से सीचा है उसे हमसे कोई अलग नहीं कर सकता अगर कभी जरूरत होगी तो देश का हर एक नागरिक इसके लिए कुर्बान हो जाने को तैयार होगा अलगाववादी नेता साप की तरह है जिनके फण को कुचल कर ही उनसे मुक्ति पाई जा सकती है देश में रह कर पाकिस्तान का झंडा लहराने वालो को इस देश में कोई जगह नहीं होनी चाहिए आज जरूरत है कश्मीर की ३७० जैसे कानून को हटाने की जिससे वहा का बहुलवादी जन्सयंकी ढाचा बना रहे .... यह कश्मीर के भविष्य को चढ़ जेहादी तत्वों से बचा सकता है

के द्वारा:

प्रिय मिश्र जी, महान समाज सुधारक मर्यादा पुरुषोत्तम श्री बाबर जी महाराज (मैं ऐसा ये महसूस करने के लिए लिख रहा हूँ ताकि समझ सकूं कि उन लोगों के मन में कौन सा भय छिपा बैठा होता है जिसके कारण वे सच बोलने से कतराते और आताताइयों का पक्ष लेते हैं) के हम बेहद शुक्रगुजार हैं कि उन्होंने अपने राह में आने वाले सभी मंदिरों को नहीं तोडा और कुछेक मठों को ही तोड़ फोड़ कर हमें अनुग्रहीत किया| ५०००० लोगों ने ५००० सैनिकों का विरोध क्यों नहीं किया सवाल क्या स्वयं अपना जवाब नहीं है? आम आदमी क्या सैनिकों से लडेगा विश्व के किस कोने में जनता ने हथियार बंद सैनिकों से युद्ध किया है ? और अगर किया है तो मैं भी उस इतिहास को जानना चाहूंगा क्योंकि वह इतिहास हमारे वर्तमान कश्मीर के लिए उद्धरण होंगे जहाँ गिनती के भाड़े के टट्टू घुस का लाखों लोगों के सर पर मौत का तांडव करके चले जाते हैं या फिर चन्द अलगाव वादी घाटी में हमारे सैनिकों के लिए चुनौती बन जाते है | गिनती का फर्क कभी भी युद्ध पर नहीं पड़ता | युद्ध पर प्रभाव पड़ता है सिर्फ नेतृत्व का | बाबर के आक्रमण के समय भी यही हुआ था हमारा नेतृत्व या तो भगवान् भरोसे बैठा था या फिर कमजोर था जिसके पास संगठन की क्षमता ही नहीं थी बिलकुल आज के राजनेताओं की तरह जिनके पास न तो संगठन की क्षमता है न सरदार पटेल जैसा चरित्र वर्ना कश्मीर नहीं पाकिस्तान के लिए सिर्फ एक ही बात कहनी थी- 'क्या पिद्दी, क्या पिद्दी का शोरबा !' मिश्र जी, श्री नरेश मिश जी को मेरा भी आभार ज्ञापित कीजियेगा| आपकी एक और हुंकार सुनकर अत्यंत हर्ष हुआ| वन्दे-मातरम!

के द्वारा: chaatak chaatak

के द्वारा:

आर.एन. शाही के द्वारा September 25, 2010 उपेन्द्र जी मैं तो आपका धन्यवाद करते हुए पिछली बार ही अपनी बहस बन्द मान कर गया था, परन्तु आपने फ़िर वापस बुला लिया । लगता है कुछ लगाव हो गया है, जिसके कारण हम एकदूसरे को छोड़ने के लिये तैयार नहीं हो पा रहे हैं । वह भाषण नहीं था, कश्मीर की अभिन्नता के प्रति जनभावनाओं के प्रतिनिधित्व की आवाज़ थी । यह भी हो सकता है कि हम लोग दो विषयों को एक मानकर बेकार की बहस में उलझ गए हैं । आफ़स्पा नाम की बहस की मंज़िल पर शायद अलग-अलग रास्तों के राही टकरा गए । हम अपनी बहस के केंद्र में पहले दिन से ही कश्मीर से आफ़स्पा हटाने की स्थिति है या नहीं, इसको रख कर चले, और इससे अधिक हमें कुछ देखना भी नहीं था । आप उसको जाट आन्दोलन और कैप्टन कोहली प्रकरण से भी जोड़ रहे हैं । कश्मीर के वर्तमान मुख्यमंत्री को मैं व्यक्तिगत तौर पर डरपोक और अयोग्य मानता हूं, मैंने अपने कुछ लेखों में इसका ज़िक्र भी किया है । बेशक उन्हें यदि कुछ निर्दोषों पर आंच आई थी, तो उनके बीच जाकर उनके घावों पर मरहम लगाना था, जो कि उनका नैतिक और संवैधानिक कर्त्तव्य था । उन्होंने नहीं किया, क्योंकि अव्वल दर्ज़े के निकम्मे और भीरु स्वभाव के हैं । डर के मारे जलते कश्मीर से फ़रार होकर राहुल गांधी के साथ मैदानी इलाक़ों में घूम रहे हैं । इस बात का भारतीय संघ के साथ कश्मीर के रिश्ते का कुछ लेना देना नहीं है, कि उन्होंने अपना कर्त्तव्य पूरा नहीं किया, इसलिये आफ़स्पा हटा लिया जाय । इसी प्रकार कोहली मामला भी एक सैन्य अधिकारी की व्यक्तिगत सोच और कृत्य का मामला है । यदि आप मानते हैं कि सारे कश्मीरी अलगाववादी नहीं हैं, तो यह भी मानना चाहिये कि सारे सैन्य अधिकारी भी कैप्टन कोहली नहीं हो सकते । आफ़स्पा कानून के औचित्य के लिये कैप्टन कोहली और कमज़ोर मुख्यमंत्री के गैरज़िम्मेदाराना कृत्य का उदाहरण तर्क़ के रूप में प्रस्तुत करना, कश्मीर समस्या को बहुत छोटी दृष्टि से देखना कहा जाएगा । हम चाहे जितनी बहस कर लें, बात वहीं आकर थम जाएगी कि वर्तमान स्थिति में आफ़स्पा हटाकर क्या हम कश्मीर को भारतीय संघ का अभिन्न हिस्सा रख पाएंगे? जवाब होगा, \’नहीं\’ । अब रोगमुक्त होने के लिये जब हम एंटी बायोटिक खाते हैं, तो वह शरीर के अच्छे या बुरे बैक्टीरिया की पहचान नहीं कर पाता, दोनों को समान रूप से मारता है । अच्छे बैक्टीरिया की कमी हम अलग से विटामिन की गोली लेकर पूरा करते हैं । आफ़स्पा को ज़रूरी एंटीबायोटिक के तौर पर ही देखना होगा । यदि न लें, तो रोग से मरना अवश्यंभावी हो जाता है ।

के द्वारा:

upendraswami के द्वारा September 24, 2010 अच्छा भाषण बन पड़ा है, शाही जी। दाद दी जा सकती है। लेकिन मुद्दे से भटका हुआ है। हमारी कई राजनीतिक पार्टियां, संगठन यह भाषण कई सालों से देते आ रहे हैं। जो लोग राह चलते इंसान की मदद नहीं कर सकते, वे कश्मीर पर अच्छा भाषण दे सकते हैं। यह टिप्पणी आप पर नहीं, राजनीतिक दलों पर है, इसलिए अन्यथा न लीजिएगा। मेरी तरफ से कोई विषयांतर नहीं, न मुझे इतनी लंबी बातें कहनी आती हैं। सिर्फ कुछ पंक्तियां- कश्मीर पर सारा मौजूदा संकट आखिर पिछले चार महीने के घटनाक्रम की ही वजह से है न! आपने इतनी बातों में मेरी दो बातों का जवाब नहीं दिया, मुझे तो सिर्फ उनका जवाब चाहिए। पिछली प्रतिक्रिया से ही उद्धृत कर दे रहा हूं- “हिसार में जाट आरक्षण आंदोलन में एक आंदोलनकारी की मौत हुई तो मुख्यमंत्री तुरंत वहां गए, पांच लाख का मुआवजा दिया.. कुछ ऐसा ही हाल अलीगढ़-मथुरा के किसान आंदोलन में हुआ, दोनों ही जगह आंदोलनकारियों ने जमकर आगजनी की, हिंसा की, तोड़-फोड़ की। अगर कश्मीर को हम उतना ही अपना मानते हैं तो क्यों नहीं सुरक्षा बलों की फायरिंग में सौ लोगों के मारे जाने के बाद भी हमारे मुख्यमंत्री वहां गए, लोगों से मिले, उन्हें कोई तसल्ली दी? सेना हर गलती के लिए नहीं, लेकिन कुछ के लिए तो जिम्मेदार है ही। कैप्टन कोहली प्रकरण पर आप क्या कहेंगे?” इनका जवाब हो तो बेहतर है, वरना बहस बंद कर देनी चाहिए।

के द्वारा:

जोशी जी वंदेमातरम ! आपने 370 और भिंडरवाला से संबन्धित जो बाते कहीं वो बिल्कुल सही हैं । 370 की विषबेल बोने वाले नहेरू ही थे और इंदिरागांधी ने ही भिंडरवाला को अपने राजनीतिक लाभ के लिये खड़ा किया था मगर जब भिंडरवाला पाकिस्तान और आई एस आई के हाथों की कठपुतली बन गया और भारत से अलग खालिस्तान देश की मांग करने लगा तब इंदिराजी ने सख्ती से उसका और पंजाब मंे पाकिस्तान प्रायोजित आतंकवाद का सिर कुचल दिया । आपका यह भी कहना सही है कि आज पाकिस्तान और अगानिस्तान में आतंकियों के साथ मासूमों की भी जाने जा रही हैं । देख कर वाकई में दुख होता है कि अपने राजनीतिक लाभ के लिये सरकारें हजारों साल से मासूमों के खून से होली खेलती आयी हैं । मासूम सिविलियन गेंहू में घुन की तरह पिसता रहा और उसकी सुनवाई भी नहीं होती है । मगर भारत में हालात बहुत बेहतर हैं । आज जो कुछ भी कश्मीर या नक्सली प्रभावी क्षेत्रो में हो रहा है वह केन्द्र की आत्मघाती नीतियों का ही कारण है । सांप पालने ही नहीं चाहिये । सांप को दूध पिलाने से और देशविरोधी सिद्धांतों की बात करने वालों को बहुत पहले ही कुचल देना चाहिये । आगे चल कर इनमें से कोई जिन्ना की तरह डाईरेक्ट ऐक्शन की बात करने लगेगा तब सरकार के हाथ पांव फूल जायेंगे और अंतर्राष्ट्रीय दबाव जो बनेगा उसके सामने घुटने टेक देंगे । नक्सली आंदोलन को हवा देने वाले ये कम्युनिस्ट हैं । आज माओवादी इनके ही नेताओं को गोलियों से छलनी कर रहे तब भी इनकी आंखे नहीं खुली हैं । ममता बनर्जी और कांग्रेस भी आज बंगाल के चुनाव में वोटबैंक की खातिर दांव खेलने लगे हैं । जोशी जी हम भारतीय स्वाभाव से दयालु और सहिष्णु होते हैं । हम दूसरों की पीड़ा देखकर अपनी पीड़ा भूल जाते हैं । निसंदेह राजनैतिक कारणों से मासूमों का खून बहता है मगर कश्मीर में अगर भारतीय सेना न होती तो उसके हालात पाक अधिकृत कश्मीर के ही समान नारकीय होते । इसके लिये अलावा पाकिस्तान और चीन को दान करने के पश्चात जितना कश्मीर हमारे पास शेष बचता है वह उसमें से 80 प्रतिशत इलाका जम्मू और लद्दाख का हिंदू बाहुल्य इलाक है । मात्र 20 प्रतिशत घाटी के 1 प्रतिशत पाक परस्त अलगाववादियों की परवाह करके केन्द्र सरकार भारत का पक्ष कमजोर कर रही है । इन अलगाववादियों में इतना भी बूता नहीं है कि वह चुनाव में खड़े होकर कश्मीरी जनता से उनका समर्थन हासिल कर सकें । इन भाड़े के टट्टूओं को पाकिस्तान से पेंशन मिलती है । इनको सुन कर हम अपना नुकसान कर रहे हैं । फिर येे तो बात करने के लिये ही तैयार नहीं हैं । जरूरत है सख्त कदम की । इन मरे हुये गंधाती लाशों को कश्मीर से निकाल फैंक दें तो कश्मीर की आबो हवा अपने आप खुशगवार हो जायेगी । आपकी टिप्प्णी से इस सार्थक बहस को एक नया आयाम मिला है । बहुत बहुत धन्यवाद । जय हिंद ।

के द्वारा:

प्रिय के एम मिश्रा जी, मैने वादी एवं प्रतिवदियों को पढ़ा, मेरी सोच जरा हट कर है। सारे फसाद की जड़ यदि है तो यह राजनेता लोग है, जो अपनी कुर्सी के लिए देश को बेचने के लिए भी तैयार है। कशमीर में 370 की अगुवाई मेरी जानकारी के हिसाब से श्री नेहरू जी ने की थी (क्‍योंकि वह एक कशमीरी थे) और उसे आगे तक जारी रखा माननीय श्रीमती इंदिरा जी ने। उस समय उन की सोच कुछ और रही होगी, क्‍योंकि वह अपने कश्‍मीरी जनता से वोट की खातिर उन में सम्मिलित हो गये कि यहां बाहर के प्रदेश का कोई भी नागरिक आकर नही बस सकेगा। और वही हुआ 370 काशमीर पर लागू रहा और कांग्रेस पुरी मैजोरिटि से सत्‍ता पर काबिज रही। एक दुसरा उदाहरण देना चाहुंगा – पंजाब को जलाने में भी माननीय श्रीमती इंदिरा जी का ही हाथ था। भिडंरवाला को पहले उन्‍होंने ही पनह दी और उस के साथ कई मंचों पर उन की साथ-साथ के फोटों मेंगजिनों में हम ने भी देखे थे (इंडिया टुडे में) और जब ऑग ज्‍यादा लग गई तो आपरेशन ब्‍लूस्‍टार करना पड़ा और उस का खमियाजा स्‍वयं उन्‍हें अपने खुन से देना पड़ा। आप यदि गौर करें तो देखें आज आप कितने भी साक्षय विश्‍व एवं अमेरीका के सामने रखें कि मुंबई में एवं भारत के अन्‍य प्रदेशों में आतंकवादी गतिविधीयों का संचालक पाकिस्‍तान है। और अमेरीका उसे मानते हुए भी आज पाकिस्‍तान को हर तरह से पैसों कि मदद कर रहा है चाहे वह सैन्‍य विस्‍तार हो या और किसी नाम से। शायद आप लोग जानते होंगे अमेरिका में युद्व सामग्री, अस्‍त्र-शस्‍त्र, गोला बारूद एवं मिजाईल तक बनाने का काम प्राईवेट कंपनीयां करती है। और उन के मालिकों का अमेरीकी सरकार पर दबाव रहता है कि वह ऐसी योजना न बनाए जिस से ऐशीयाई देशों मे शांति हो सके और उन की फैक्‍टरीयों में बने माल की खपत न हो। भारतीय सरकार यदि कशमीर पर कुछ करने जाती है तो वह मानवाधीकार की अवहेलना है और अफगानिस्‍तान में ड्रॉन से हमले करवा कर भी अमेरीका सर्वोपरी माना जाता है। आज 370 की जड़े इतनी पैवस्‍त हो गई है कि अब इसे उखाड पाना किसी के बस की बात नहीं है। आज यदि कोई भी सख्‍त कदम उठा कर यदि हम काश्‍मीर में शान्ति लाना चाहेंगे तो पहले तो कहीं न कहीं भारतीय राजनिति आड़े आएगी। फिर मानवाधीकार की अवहेना का मुददा सर उठाऐगा। पर कड़वा सत्‍य यही है कि बिना अर्मि को दि गई स्‍वंत्रता के हम इन दमनकारी ताकतों को दबा नही पाएंगे और यह हडडी हमारे गले में अटकी ही रहेगी। - दीपक जोशी

के द्वारा: दीपक जोशी DEEPAK JOSHI दीपक जोशी DEEPAK JOSHI

मिश्र जी .. चीन के आक्रमण के बाद जब उसने भारत की जमीं को जबरन कब्ज़ा कर लिया था तब संसद में जवाब देते हुए नेहरु जी ने यही कहा था की जो जमीन चीन के कब्जे में है वह अनुपयोगी है बंजर है ,, अब सवाल ये है की इस तरह से हम कबतक इन गंभीर समस्याओ पर टाल मटोल की नीति अपनाते रहेंगे .. कश्मीर का मुद्दा हम स्वयं ही लगातार खतरनाक बनाते चले जा रहे है .....वास्तविकता यही है की कश्मीर जैसे मुद्दों को सुलझाने के लिए सरदार पटेल जैसी दूर दृष्टि और दृढ़ता चाहिए ..जो आजादी के बाद किसी भी नेतृत्वा में नहीं दिखती है .. .. हम ये भूलते जा रहे है की कश्मीरी अलगाववादी और नक्सली आतंक के लिए मानवाधिकार के लिए हम देश के करोणों लोगो के मानवाधिकारों और सुरक्षा को खतरे में डाल रहे है..... ये तय करने में क्या कठिनाई है ... आप एक सीधा प्रश्न के बारे में सोचिये की अगर आपके दाहिने हाथ को उठाने में ५ लोग मरते है और बाये हाथ को उठाने में २० लोग मरते है तो आपका निर्णय क्या होगा .. जबकि एक हाथ उठाना अनिवार्य है ... जाहिर तौर पर आप दाहिना हाथ उठाएंगे .. आप ये नहीं देखेंगे की ५ मर रहे है बल्कि ये देखेंगे की १५ बच गए .....और जब ये ५ आतंकवादी है तो फिर संकोच कैसा अगर आप हाथ नहीं उठाएंगे तो वे ५ बाकि २० को मार देंगे जो निर्दोष है... विकास और शोषण का प्रश्न ही नहीं है प्रश्न केवल ये है की कश्मीरियों के दुःख के नाम पर अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर भारत को अव्यवस्थित करने की शाजिश की जा रही है .. और इस साजिश में हम खुद भी शामिल है ..सरकार को दाहिना हाथ उठा देना चाहिए .. और सेना को वे शक्तिया देनी चाहिए ताकि कश्मीर को इन उपद्रवियों से पूरी तरह मुक्त किया जा सके ....

के द्वारा: NIKHIL PANDEY NIKHIL PANDEY

प्रिय मिश्र जी रोचक तथ्यों को एक माला में पिरोने के लिए धन्यवाद,--------श्री नरेश मिश्र जी का यह कथन की "महमूद गजनवी ने जब गदा की चोट से सोमनाथ शिवलिंग तोड़ने के प्रयास किया था तब पुजारियों और हिंदू सामंतों ने उससे अनुरोध किया था कि वह शिवविग्रह न तोड़े । इसके बदले में वे गजनवी को मुंह मांगी दौलत देने को तैयार थे । लेकिन गजनवी ने दो टूक जवाब दिया था कि वह तवारीख में बुतों का सौदागर नहीं बुतशिकन कहा जाना पसंद करेगा "-------तथ्यों से परे है क्योंकि जिस समय दिसंबर १०२४ में केवाल पाँच हजार सौनिको के साथ हमला किया था उस समय वहां ५० हजार व्यक्ति थे और उसने इन सब को ही क़त्ल कर दिया था ----ऐसा क्यों हुआ यह सब इतिहास के पन्नो में दर्ज है -------दूसरी बात यह की नाम को उल्टा सीधा लिखने से कोई फर्क नहीं पड़ता और नहीं इससे उस लुटेरे का अपराध कम होगा, ----- वह २ नवम्बर ९७१ में पैदा हुआ था और ३० अप्रैल १०३० में इस दुनिया से बिदा हो गया था उसका पूरा नाम था Yamin-al-Dawalah Abd-al-Mohmad- Ibn-Sebuk Tegin - जो Mahmud Ghazanawi के नाम से मशहूर हुआ - जन्म स्थान GAZANI जो की अफगानिस्तान में स्तिथित है --- अब सोचने के बात यह है की क्या उस समय ५०००० लोगों ने विरोध क्यों नहीं किया उन ५००० की फ़ौज से ---यह मै नहीं कह रहा हूँ यह सब इतिहास में लिखा है /

के द्वारा: s p singh s p singh

आर.एन. शाही के द्वारा September 24, 2010 उपेन्द्र जी अब हमारी बहस में विषयांतर और खिंचाव की स्थिति आ रही है, जो गैरज़रूरी है, और ऐसी स्थिति तभी आती है, जब कहने को दोनों पक्ष के पास कुछ और नहीं बचता । हर बहस या तर्क़-वितर्क़ में कुछ छुपे आशय आते रहते हैं, जो खामोशी से समझ लिये जाते हैं, अर्थात अंडरस्टूड होते हैं । कश्मीरी विद्रोहियों की संख्या इतनी नहीं है कि हमें अपनी सारी सेना झोंकनी पड़े, या 120 करोड़ की आबादी उनका प्रतिकार करने पहुंच जाय । मेरा आशय यह है, कि जो स्थितियां आती दिख रही हैं, उसमें यदि अलगाववादियों के किसी आह्वान पर विदेशी सेनाएं उनकी मदद को आ जाती हैं, जैसा कि वे छद्म आतंकवादियों के भेष में पूर्व से हैं भी, और क्या पता बड़ी सेनाएं भी कल को सामने आ जाएं, तो हम मुंह की खाकर पीछे हटकर सुलह समझौते जैसी कायरता सरकार को नहीं करने देंगे । मर जाएंगे, लेकिन कश्मीर नहीं देंगे । वहां हमारे विवेकशील तर्क़ काम नहीं करेंगे जो आदमी को कायर बनाते हैं, बल्कि विशुद्ध भावनाएं होंगी जिनका एक ही मक़सद होगा, कि परमाणु युद्ध भी करना पड़े, तो करेंगे, अपने देश का टुकड़ा किसी कीमत पर नहीं देंगे । वैसे भी आततायी घाटी को खून से लाल करते रहे हैं, और हमने टुकुर-टुकुर देखने के अलावा अभी तक कुछ किया नहीं है । अभी भी आपको कोई खतरा नहीं दिख रहा उपेन्द्र जी, मानवाधिकार की बात कर रहे हैं, जबकि पाकिस्तान ने अभी कल भी हमें ललकारते हुए नसीहत दी है कि अब कश्मीर पर से दावा छोड़ दें । अब ऐसा नहीं होगा, क्योंकि देश जाग चुका है, भले किसी को दिखाई न दे रहा हो । वह जनभावनाएं ही हैं, जिसकी वजह से कल फ़ैसला टला है । अब यह अन्दरूनी खेल भी बहुत दिनों तक चलने वाला नहीं है । हर चीज़ की एक हद होती है, और अब वह पार कर रही है । ‘जाग उठा है देश ये सारा दृढ संकल्प की बारी है – स्वाभिमान जगा भारत का नवयुग की तैयारी है’ । आप भी तैयार रहिये उपेंद्र जी । आने वाले कल का मक़सद होगा कि सारे विशेषाधिकार समाप्त कर घाटी में भारत बसाया जाय, क्योंकि इस समस्या के अंत का यही एकमात्र रास्ता है । कश्मीरी पंडित अनन्तकाल तक अपनी भूमि से अलग नहीं रहेंगे, न ही वहां के सिखों और बौद्धों को अपना धर्म परिवर्त्तन करने की नौबत आने देंगे । कश्मीरी मुसलमान जो देशभक्त और निर्दोष हैं, कोई पागल ही होगा जो उन्हें भी अलगाववादियों की श्रेणी में रखकर देखेगा । लेकिन उनके बीच में फ़ंसे हुए हैं, तो सामयिक रूप से परेशानी झेलने से उन्हें हम नहीं बचा सकते । इस बहस में अब कोई तर्क़ नहीं रहा । कश्मीर हमारा था, हमारा है, और हमारा रहेगा । चीन और पाकिस्तान संयुक्त प्रयास करके भी अब हमारे ज़मीन का और टुकड़ा नहीं कर सकते । हमें मिटाकर करना चाहेंगे, तो खुद भी मिटेंगे । पहले और आज की स्थिति में फ़र्क़ है । 62 में हमारा देश अभी घुटनों के बल रेंग रहा था, जब ड्रैगन ने ज़मीन हथियाई थी । आज वह जानता है कि उसके पास अगर दिल्ली तक मार करने वाली मिसाइलें हैं, तो हमारी पहुंच भी बीजिंग तक हो चुकी है । हमारी कमज़ोरियां सिर्फ़ हमारी राजनीति में समाया हुआ भ्रष्टाचार है, जिसके कारण नैतिक बल में हम तुलनात्मक रूप से चीन से पीछे हैं । इस कमज़ोरी से पीछा छुड़ाना हमारे अपने हाथ में है । वह आज हमसे ताक़तवर ज़रूर है, लेकिन जानता है कि हम भी आज 62 जैसे कमज़ोर नहीं हैं, कि टकराकर आसानी से बिना अपना नुकसान उठाए हमें धूल चटा देगा । रही बात पाकिस्तान की, तो वह हमेशा हमारे सामने पिद्दी ही रहेगा । प्राँक्सी वार से अधिक न वो कर पाया है, न कर पाएगा । आफ़स्पा कानून एक सामयिक ज़रूरत है, सामरिक नहीं । और न ही अपने नागरिकों पर नाहक़ ज़ुल्म ढाने के लिये बना है । अलगाववादी हों या छद्मवेश वाले पाकिस्तानी आतंकवादी, हमारा डायलाँग वही रहेगा – ‘दूध मांगोगे, खीर देंगे- कश्मीर मांगोगे, तो चीर देंगे’। धन्यवाद उपेंद्र जी ।

के द्वारा:

upendraswami के द्वारा September 23, 2010 शाही जी, कश्मीर की भी बात करें तो अफसोस कि हमारी ठीक यही सोच वहां के लोगों को हमसे दूर कर रही है। यानी कश्मीर पर नियंत्रण रखने के लिए हम जिस नीति पर चल रहे हैं, वही नीति दरअसल उन लोगों को हमने परे कर रही है। हमने कश्मीर को पाकिस्तान मान लिया क्योंकि वहां कुछ पाकिस्तान-परस्त लोग हैं। इसलिए सारे कश्मीर हमारे दुश्मन हो गए। जब हम सेना झोंकने और 120 करोड़ लोगों को सीमा पर खड़े करने की बात कर रहे हैं तो वह कश्मीर के पार की बात कर रहे हैं। लेकिन हमारे जेहन में यह तर्क काम कर रहा है कि पूरा कश्मीर दुश्मन देश है। कश्मीर और पाकिस्तान में फर्क नहीं करेंगे तो कभी इस समस्या को सुलझा नहीं पाएंगे। आपकी आखिरी पंक्ति भी वही सोच दिखाती है, हमारा संविधान कश्मीरी लोगों को विशेष सुविधाएं दे रहा है, अलगाववादियों को नहीं। हमारे आधे सांसद भ्रष्ट हैं, अपराधी हैं- तो क्या हम पूरी संसद को फांसी चढ़ा देंगे? सजा कश्मीरी लोगों को क्यों देना चाह रहे हैं। मेरी एक बात का जवाब दीजिए- हिसार में जाट आरक्षण आंदोलन में एक आंदोलनकारी की मौत हुई तो मुख्यमंत्री तुरंत वहां गए, पांच लाख का मुआवजा दिया.. कुछ ऐसा ही हाल अलीगढ़-मथुरा के किसान आंदोलन में हुआ, दोनों ही जगह आंदोलनकारियों ने जमकर आगजनी की, हिंसा की, तोड़-फोड़ की। अगर कश्मीर को हम उतना ही अपना मानते हैं तो क्यों नहीं सुरक्षा बलों की फायरिंग में सौ लोगों के मारे जाने के बाद भी हमारे मुख्यमंत्री वहां गए, लोगों से मिले, उन्हें कोई तसल्ली दी? सेना हर गलती के लिए नहीं, लेकिन कुछ के लिए तो जिम्मेदार है ही। कैप्टन कोहली प्रकरण पर आप क्या कहेंगे?

के द्वारा:

आर.एन. शाही के द्वारा September 23, 2010 उपेन्द्र जी अगर आपका आफ़स्पा हटाने से सम्बंधित लेख कश्मीर के संदर्भ में नहीं था, तब तो हम इस बहस का पटाक्षेप ही कर दें । हम इस वक़्त कश्मीर और सिर्फ़ कश्मीर की बात कर रहे हैं, मैं मिश्रा जी या बाजपेयी साहब कोई भी । यह हर क़ीमत पर सुनिश्चित हो जाना चाहिये कि कश्मीर हमारा अभिन्न अंग बना रहेगा । यहां मैं या कोई भी आम भारतीय मानवाधिकार के नाम पर अपने भूखंड के शीर्ष को गंवाने की बात का समर्थन नहीं कर सकता, भले हमें आफ़स्पा से भी कड़े क़ानून क्यों न बानाने पड़ें, देश की पूरी सेना झोंककर युद्ध ही क्यों न लड़ना पड़े, या पूरी 120 करोड़ की जनता को सीमाओं पर चढ़कर दुश्मनों से आमना सामना क्यों न करना पड़े । हम कश्मीर किसी भी स्थिति में हाथ से नहीं जाने दे सकते उपेंद्र जी । वहां चिदम्बरम जी जाकर नहीं मिले, तो क्या वे लोग चिदम्बरम का इंतज़ार कर रहे थे जिन्होंने बाक़ी के नेताओं से मिलने से इंकार करते हुए सिर्फ़ और सिर्फ़ आज़ादी लेने की बात की? कहीं अंजाने में हम अपनी सेना पर यह आरोप तो नहीं लगा रहे कि जो स्थिति आज बनी है, वह सेना की कारस्तानी है । उस धरती पर जब भी पहल हुई है, आतंकवादियों और अलगाववादियों द्वारा ही खुराफ़ात की शुरुआत की गई है, फ़िर सेना तो अपना काम करेगी ही । दूसरे राज्यों में जहां आफ़स्पा लागू है, वह एक अलग बहस का विषय हो सकता है वहां की परिस्थितियों के आधार पर । अगर राजनीतिक बातचीत से कश्मीर में सचमुच कोई सकारात्मक हल निकलता है, तो वह स्वागत योग्य होगा, लेकिन पहले से ही अनगिनत सुविधाएं प्राप्त कर रहे अलगाववादियों के आगे घुटने टेक कर यदि कुछ भी और परोसने की कोशिश की गई, तो हमारे लिये आत्मघाती होगा ।

के द्वारा:

upendraswami के द्वारा September 22, 2010 शाही जी, मैं यह बात पहले भी कह चुका हूं कि सशस्त्र बल विशेष अधिकार कानून पूर्वोत्तर के राज्यों में पचास से भी ज्यादा साल से है और वहां लगातार उसका विरोध होता रहा है। शर्मिला के बारे में मैंने बताया जो दस साल से इसके विरोध में अनशन पर हैं। कुछ साल पहले वे दिल्ली भी आईं, विरोध किया, पुलिस ने जबरन एम्स में भर्ती कराया और फिर मणिपुर भेज दिया। इस कानून का विरोध न कोई पहली बार हो रहा है और न केवल कश्मीर के संदर्भ में हो रहा है। इसका विरोध समग्र रूप में लगातार होता रहा है। इसलिए खास तौर पर कश्मीर के लिए कुछ कहा जा रहा है, ऐसा नहीं है। यह बात तो मेरी मूल पोस्ट में भी स्पष्ट थी। अब बात कश्मीर की। क्या कश्मीरियों का यह सवाल जायज नहीं कि कश्मीर में चार महीनों में सौ लोगों के मारे जाने के बाद क्यों सरकार को वहां शिष्टमंडल भेजने की याद आई? क्या यह काम विरोध की पहली घटना के बाद ही नहीं हो जाना चाहिए था? और फिर विरोध की बात ही क्यों, कश्मीर को लेकर इतने सालों में क्यों नहीं कभी वहां जाकर आम लोगों से मिलकर बात की गई? क्या सरकार की शान में गुस्ताखी हो जाती अगर चिदंबरम खुद गिलानी, फारूक व मलिक से मिलने पहुंच जाते? आखिरकार हम देश के सामने खड़े सबसे बड़े संकट को सुलझाने की बात कर रहे हैं तो सरकार क्या अपनी तरफ से दो कदम आगे नहीं चल सकती थी? बातचीत को खुले दिल से तैयार तो हों, तो सारे मुद्दों की बात हो, कश्मीरी पंडितों की भी बात हो। लेकिन अगर हम तय ही कर चुके हों कि समाधान सिर्फ बंदूक से ही हो सकता है तो रास्ता कैसे निकलेगा। चीन ने थ्येन आनमन में जो किया, उसका पक्ष आप भले ही लें, मैं नहीं ले सकता। शक्ति बनने का वो कोई रास्ता नहीं और चीन केवल उसके बूते है भी नहीं।

के द्वारा:

आर.एन. शाही के द्वारा September 22, 2010 उपेन्द्र जी थोड़ी देर से देख पाया, इसके लिये खेद है । देखिये अपने देश के नागरिकों, चाहे वो कश्मीरी हों या कोई और, मारकर अपनी बात नहीं मनवाई जा सकती, आपका यह कथन सही है । तो क्या दूसरे राज्यों के उग्रवादी हमारे नागरिक नहीं हैं? हम उन्हें मारने अथवा उनका उन्मूलन करने की योजनाएं आखिर क्यों बना कर भिड़े हुए हैं? इसीलिये न कि स्वदेशी होते हुए भी वो हमारी संवैधानिक व्यवस्था को मानने से इंकार करते हैं, और यह कि हिंसक हैं? तो वहां कश्मीर में ऐसी क्या खास बात है कि वहां की हिंसक भीड़ जो उग्रवादियों की तरह ही हमारी संवैधानिक व्यवस्था को मानने से इंकार कर रही है, और मरने मारने पर उतारू है, वहां से सख्ती हटा ली जाय, क्यों? शिष्टमंडल गया तो है कश्मीर और जम्मू भी । क्या हुआ है वहां, मुझसे ज़्यादा जानकारी आपके पास होगी । गिलानी सहित तीनों मूर्तियों ने टका सा जवाब दिया है कि हमें सिर्फ़ और सिर्फ़ आज़ादी चाहिये, बिजली पानी और सड़क नहीं । जम्मू में अलग तरीके का विरोध हुआ कि सारी मानमनव्वल सिर्फ़ वहीं क्यों, कश्मीरी पंडितों को विश्वास में लिये बिना वार्ता का औचित्य क्या है? अब बताइये उपेंद्र जी क्या गलत कह रहे हैं कश्मीरी पंडित? जो अवाम हमारे साथ रहने के लिये तैयार नहीं है, उसे सारी सुविधाओं सहित हमें तुरन्त सख्ती छोड़कर तश्तरी में सजाकर अलग मुल्क घोषित करवा देना चाहिये । यदि यही मानवाधिकार की असली और लाभदायक परिभाषा होगी, तो फ़िर हमारी बहस बेकार ही है । चीन ऐसे ही आगे नहीं बढ़ गया उपेंद्र जी, थ्येनआनमन चौक पर यदि उसने छद्म मानवाधिकार का मुंह देखा होता, तो आज शायद इलाक़े की महाशक्ति नहीं होता ।

के द्वारा:

upendraswami के द्वारा September 21, 2010 मिश्रा जी, शाही जी, रमेश जी! मुझे लगता है कि कश्मीर को देखने का हमारा नजरिया बहुत सीमित व एकतरफा है- अनुच्छेद 370, कश्मीरी पंडित.. वगैरह, वगैरह। मिश्रा जी का कश्मीर के लोगों को कीड़े-मकोड़े, खटमल कहना दर्शाता है कि हम किस सोच के साथ इस चुनौती का सामना कर रहे हैं। क्या कश्मीर के सारे लोगों को ठिकाने लगाकर कश्मीर पर नियंत्रण बनाए रखने में हमें गर्व होगा या एक फलते-फूलते कश्मीर को साथ लेकर चलते हुए गमें गर्व होगा- जवाब तो इस सवाल का ढूंढना है। शाही जी का यह कहना भी गलत है कि इस मसले को अब उठाने में कोई निहितार्थ हैं। अगर आम लोगों को तसल्ली देना कोई निहितार्थ है, तो वह बेशक कभी भी हो सकता है। लेकिन मैंने अपनी मूल पोस्ट में लिखा था कि मणिपुर में इरोम शर्मिला तो दस साल से इस कानून के खिलाफ अनशन पर हैं। एएफएसपीए का विरोध तो काफी समय से हो रहा है, बस ज्यादती होती है तो गूंज ज्यादा सुनाई देने लगती है। इसी तरह अनुच्छेद 370 का इस्तेमाल भी सिर्फ राजनीतिक विरोध के लिए होता है। कश्मीर को विशेष अधिकार प्राप्त है तो उसका क्या नुकसान बाकी देश को हुआ, इसका किसी के पास कोई तर्क नहीं, इसके सिवाय कि अनुच्छेद 370 का फायदा उठाकर कश्मीर में आतंकी पनप रहे हैं। कश्मीर के भारत में विलय की स्थितियों व शर्तों की कोई बात नहीं होती। और फिर सबसे बड़ी बात तो यह है कि हम कश्मीर के लोगों को दिल से जोड़ने की बात कर रहे हैं या उनकी छाती पर पैर रखकर उन्हें रौंदने की।

के द्वारा:

प्रिय श्री मिश्र जी, चातक जी के शब्‍दों में आपके इस सिंहनाद नें जैसे सोते से जगा दिया है । मैं आपकी इस बात से सहमत हूँ कि सर्जन अगर यह देखेगा कि सर्जरी से खून निकलता है या गैंगरीन से वह छोटा सा अंग सड़ रहा है और अगर जल्द सर्जरी नहीं की गयी तो पूरे शरीर में जहर फैल जायेगा तो क्या वह कुछ मिली0 खून के लिये पूरे शरीर को दांव पर लगा दे । सशस्त्र सेना विशेष अधिकार कानून सर्जरी के प्रयोग में आने वाला नश्तर है । सर्जरी होगी तो कुछ खून बहेगा ही लेकिन फिर जहर पूरे शरीर में नहीं फैलेगा । अब देखिये नक्सलियों की सर्जरी अगर तीन दशक पहले ही हो गयी होती तो वह आज कैंसर का रूप धारण नहीं किये होते और न ही आज बेकसूर आदिवासी भी उनकी चपेट आये होते । .......... क्‍योंकि हमारें देश में ऐसे सैकड़ों उदाहरण है जब जहर को फैलनें दिया गया और फिर अंग विशेष को काटनें के लिए स्‍वस्‍थ अंग की बलि भी दी गई । इसलिए मैं आपकी बात के साथ हूँ और दोहरा रहा हूँ कि कश्मीर भारत का अभिन्न अंग है और हम कश्मीर को भारत से कभी अलग नहीं होने देंगे । मुट्ठीभर अलगाववादियों हम भारत के सवा अरब लोग तुम्हारे खिलाफ खड़े हैं ।“ जय हिंद । कसम तोड़नें के लिए धन्‍यवाद । अन्‍यथा हम इस जानकारी व अच्‍छे लेख से वंचित रह जाते । अरविन्‍द पारीक

के द्वारा: bhaijikahin by ARVIND PAREEK bhaijikahin by ARVIND PAREEK

अल्गाव्व्वाडियो को मेरा ये सन्देश है की कश्मीर छोडो और अपने आका से कहो की सिंध बचाए हमारे राष्ट्रगान पंजाब सिंध गुजरात मराठा अभी अपूर्ण है. दुबे जी वंदेमातरत ! आपने बिल्कुल सही कहा कि अभी हमारा राष्ट्रगान अपूर्ण है । दुबे जी जहां तक सेना की बात है तो हमारी सेना और पाकसेना में एक बड़ा भारी फर्क यह है कि हमारी सेना संविधान को मानती है और सिर्फ अपने फर्ज तक ही सीमित रहती है । वह विधायिका और न्यायपालिका के काम में हस्तक्षेप नहीं करती जैसे की पाक सेना करती है । नपुंसक तो दिल्ली में बैठे हुये लोग हैं जो यह निर्णय नहीं कर पा रहे हैं कि खटमलों को पालें या साफ कर दें । नेहरू चले गये लेकिन उनकी नीतियां अभी भी जिंदा हैं । भारत देश का सबसे बड़ा दुर्भाग्य लौह पुरूष सरदार वल्लभ भाई पटेल का आजादी के कुछ समय बाद ही चले जाना था । अगर पटेल कुछ साल और रह जाते तो कश्मीर समस्या नहीं होती क्योंकि वह पाकिस्तान समस्या को ही निपटा देते जो कि आज वैश्विक आतंकवाद का गढ़ और मुख्य उत्पादनकर्ता बना हुआ है । आपकी बहुमूल्य टिप्पणी के लिये धन्यवाद ।

के द्वारा: kmmishra kmmishra

एक भ्रमजाल पाकिस्तानी युवाओ के मन में डालता रहता है की उन्हें इस्लामियत के नाम पर कश्मीर में अपने बंदी मुसलमान भाइयो और महिलाओ की इज्जत को बचाना है इसके नाम पर जेहाद का तांडव करने भारत भेजता है निखिल जी बिल्कुल सही कहा आपने । आम पाकिस्तानियों को सन 1947 से बरगलाया जा रहा है कश्मीर के मुद्दे पर । मुंबई हमले के आरोपी कसाब का भी यही कहना है कि भारत विरोधी बातें और कश्मीरियों के बारे में अनापशनाप बातें उसके दिमाग में आई एस आई और सेना ने ही भरी थीं । इसी के भरोसे पकिस्तान का खर्चा चलता है ण्उसे कर्ज दिए जाते है तो क्या अंतर्राष्ट्रीय संस्थाए नहीं जानती की उन्हें कहा खर्च किया जाता है ! न सिर्फ पाकिस्तान का खर्च चल रहा है बल्कि भारत में मुस्लिम मतों की राजनीति करने वाले कुछ तथाकथित राष्ट्रीय स्तर की पार्टियों को चंदा भी मिडिल ईस्ट के कुछ देशों से आता है । जब एक आर टी आई के तहत यह प्रश्न पूछा गया कि राजनैतिक पार्टियों को कितना चंदा दिया जाता है तो सभी राजनैतिक पार्टियों ने एक स्वर में बताने से इंकार कर दिया था कि हम सरकारी संस्थान नहीं है जो अपना खर्च बतायें । कुछ राजनैतिक पार्टियों जो सिमि जैसे संगठनों के लिये ढाल का काम करती है उनको तो उन्हीं विदेशी संस्थाओं से पैसा मिलता है जो अलकायदा और जैशे मुहम्मद को चंदा देती हैं । यह बात मैं नहीं कह रहा हूं । यह आई. बी. और दूसरी खुफिया संस्थाओं का कहना है । इसके बावजूद भी केन्द्र की यूपीए सरकार उसके खिलाफ कुछ नहीं करती क्योंकि पिछली और इस यूपीए सरकार को भी उन तथाकथित पार्टियों का समर्थन हासिल है ।

के द्वारा: kmmishra kmmishra

बाजपेई जी आप का कहना बिल्कुल सही है कि मानवाधिकार सिर्फ अलगाववादियों और आतंकियों के ही नहीं होते हैं । मानवाधिकार और मूलाधिकार का हक हमारे सैनिकों और सशस्त्रबलों के सिपाहियों को भी है । आज कश्मीर में अलगाववाद का मुद्दा आम कश्मीरी नहीं उठा रहा है । यह मुद्दा उठाने वाले पाकिस्तान के किराये के टट्टू हैं । आम कश्मीरी ने तो अभी दो साल पहले राज्य में हुये चुनावों में 60 प्रतिशत मतदान किया था । अगर उनको भारत में रहना स्वीकार नहीं था तो उन्होंने मतदान क्यों किया था । आम कश्मीरी भारत के साथ रहना चाहता है । जिसे भारत के साथ नहीं रहना है वह भारत के भारतीय दण्ड संहिता के अनुसार भारत देश के खिलाफ युद्ध छेड़े हुये हैं और भारतीय दण्ड संहिता के अनुसार (धारा 121) भारत के खिलाफ युद्ध छेड़ने का दण्ड भी सजाये मौत ही है ।

के द्वारा: kmmishra kmmishra

के द्वारा:

आदरणीय पाण्डेय मुझे दो साल से अधिक हो गया हिन्दी ब्लागिंग में मगर मैंने आज तक ब्लाग पर सिर्फ व्यंग्य ही लिखे हैं । मुझे ऐसा लगता है कि मैं किसी भी विषय पर व्यंग्य लिख सकता हूं पर जिस तरह महाभारत में श्री कृष्ण ने हथियार न उठाने की कसम खायी थी पर भीष्म पितामह की वीरता को देख कर उन्हें भी रथ का पहिया उठाना पड़ा था वैसी ही कुछ हालत श्री कृष्ण के इस भक्त की भी कश्मीर की वर्तमान स्थिति देख कर हो गयी । लेकिन अब गंभीर मुद्दों पर चुप नहीं बैठा जायेगा और जनमानस को वास्तिविक तथ्यों से अवगत किया जायेगा क्योंकि भारतीय स्वभाव से बड़े ही मासूम, दयालु और सहिष्णु होते हैं । इसके अलावा सरकारें गलत सलत इतिहास की जानकारी दे कर उनको बरगलाती हैं और हममे से बहुत से लोग उस जानकारी/या इतिहास को सही मानन कर अपनी धारणा बना लेते हैं । अब दिमाग पर पड़ी धूल साफ होनी चाहिये । वंदेमातरम !

के द्वारा: kmmishra kmmishra

बाजपेई जी प्रणाम । हम कैसे कश्मीर को भारत का अभिन्न अंग न माने । कश्मीर पिछले पांच हजार साल से घोषित रूप से भारत देश का हिस्सा रह है । अगर कश्मीर हमसे छिन जाता है तो यही माना जायेगा कि हम भारतीय इतिहास से कुछ सीख नहीं लेते और बड़े भारी भुलक्कड़ हैं । देश का बंटवारा कराने वाली ताकतें आज फिर सक्रिय हो गयी हैं । जमीयत उलेमा.ए.हिन्द देश भर के मुस्लिम संगठनों को इकट्ठा करके कश्मीर ले जाने की तैयारी में है जिससे ये तमाम मुस्लिम संगठन कश्मीर की आग को पूरे देश में फैला सकें । अब जागने का वक्त आ गया है और उनको यह बताने का कि हम बेहोश नहीं हैं । कश्मीर भारत का अभिन्न अंग है और हम इसे अपनी जान से प्यारी मातृभूमि से अलग नहीं होने देंगे ।

के द्वारा: kmmishra kmmishra

के द्वारा: Shailesh Kumar Pandey Shailesh Kumar Pandey

शाही सर प्रणाम । अपकी टिप्पणी वहां जा कर देखी । कुछ बात सेना और सशस्त्रबलों के बारे में कहना चाहूंगा ताकि आपकी बात कुछ लोग नहीं समझ रह हैं उन्हें थोड़ी जानकारी मिले । कुछ लोगों को जिनको इतिहास की जानकारी नहीं है वो भारतीय सेना और सशस्त्रबलों पर मानवाधिकार हनन के आरोप लगाते हैं । अगर 1948 में भारतीय सेनाओं ने हवाई मार्ग से श्रीनगर और कश्मीर के दूसरे इलाकों मे अभियान न चलाया होता तो आज पूरा कश्मीर ही पाक अधिकृत राज्य होता । कश्मीरियों को यहां भारतीय सेना का एहसान मानना चाहिये क्योंकि पाक अधिकृत कश्मीर में कश्मीरियों को तो वोटिंग राइट्स भी नहीं हैं । पाकिस्तान सेना और आतंकवादी संगठनों ने उस इलाके को आतंक की प्रयोगशाला बना डाला है जहां मानवाधिकार नामकी कोई चिड़िया भी होती यह वहां के लोगों ने कभी नहीं सुना होगा । यह भारत है जहां भाड़े के टट्टू अलगाववादी पाकिस्तान के इशारे पर स्वतंतत्रा के लिये युद्ध लड़ रहे हैं । कश्मीर को पाक अधिकृत कश्मीर जैसे नर्क में तब्दील कर के इनको सिर्फ अपना हिस्सा ही मिलेगा वहां का शासन नहीं । अब बात अनु0 370 की । अनु0 370 के तहत खरबों खरबों का विशेष पैकेज कश्मीर और पूर्वोत्तर राज्यों को दिया जाता है । कश्मीर के लिये खरबों खरबों का वह पैकेज 1948 से जारी है । इस पैकेज को भी पूरे कश्मीर के लिये नहीं बल्कि घाटी के 7-8 शहरों को दिया जाता है जैसे जम्मू और लद्दाख का इलाका कश्मीर से बाहर के क्षेत्र हैं । जम्मू और लद्दाख का क्षेत्र न सिर्फ आबादी बल्कि क्षेत्र को देखते हुये घाटी से तीन गुना बड़ा है । पिछले 60 साल से सवा अरब भारतीयों के खून पसीने से दिये जाने वाले टैक्स से कश्मीर के चंद शहरों को विशेष पैकेज दिया जाता है और साथ ही पाक परस्त अलगाववादियों को भी विशेष सुविधाएं दी जाती हैं । सांप को दूध पिलाने से वह काटना नहीं छोड़ता है । अनु0 370 ने ही इनको विद्रोही, स्वतंत्र राष्ट्र कश्मीर के निजाम होने का सपना देखने के लिये उकसाया है जबकि जम्मू और लद्दाख के हिंदुओं, सिखों और बौद्धों को क्या मिला है । इन सबके बावजूद हिंदुओं के आराध्य और कश्मीर घाटी को पूरे भारतवासियों के हृदय से जोड़ने वाले बाबा अमरनाथ की यात्रा को बंद कराने के लिये न सिर्फ अलगाववादी बल्कि मुती मु0 और उमर अब्दुला जैसे नेता खुलआम भाषण देते हैं । कश्मीरी पंडितों का हश्र तो सभी जानते हैं और अब कश्मीर के सिख और बौद्धों को भी खुलेआम धर्म परिवर्तत के लिये धमकी दी जा रही है । अब समय आ गया है जब पूरे भारत को खड़े होकर इस सबका विरोध करना होगा और कहना होगा कि कश्मीर भारत का अभिन्न अंग है ।

के द्वारा: kmmishra kmmishra

प्रिय श्री मिश्र जी, आपकी राष्ट्रवादी विचारधारा एक दिन जरूर मुखरित होकर सामने आएगी इस बात का अंदाजा हमें था| जिस प्रवाह में आपने इस लेख को लिखा है वह प्रशंसनीय है| अब वह समय आ गया है जब सभी एक स्वर में गर्जना करे ताकि गलतफहमी में जी रहे उदारवादियों के ढोल का शोर थम सके| हमें आज उन आतंकियों और कायर दुश्मनों से उतना खतरा नहीं जितना खतरा इन छद्म उदारवादियों से है जिन्हें जान हथेली पर रखकर राष्ट्र की सीमा और आतंरिक शान्ति व्यवस्था सुरक्षित रखने की कोशिश करने वाले हमारे सैनिक जुल्मी और अताताई लगते हैं और क़ानून व्यवस्था को बिगाड़ने वाले, दंगे करने वाले, देश में रहकर देश से गद्दारी करने वाले यहाँ तक कि नापाक देश से आकर आतंक फ़ैलाने वाले दरिन्दे मासूम इंसान लगते हैं जिनके मानवधिकार की सबसे ज्यादा परवाह की जानी चाहिए| 'यह भारत है जहां इन खटमलों से मिलने के लिये नेता इनके घर चिरौरी करने जाते हैं जब कि इन खटमलों का शांति से कोई सरोकार नहीं है ।' भारतीय राजनेताओं के घटियापन की बिलकुल सही व्याख्या करती है| मंच के व्यंगकार के प्रथम सिंहनाद पर ढेरों बधाईयाँ! वन्दे-मातरम!

के द्वारा: chaatak chaatak

आदरणीय मिश्रा जी नमस्कार..... आज आपका गम्भीर मुद्दे पर गम्भीर रूप देखकर मुझे भी कुछ गंभीरता से सोचने और लिखने का साहस मिला है,,,,,, कश्मीर हमारा था कश्मीर हमारा है और रहेगा......मगर कैसे इन भ्रष्ट नेताओं के द्वारा,,जो की पैदा ही हुए है अपनी माँ को वे........य में बेचने के लिए अपनी बहन बेटियों को बा......र में उतारने के लिए.....जो केंद्र सरकार एक राज्य को इतने दिनों से सम्भाल नहीं पा रही है वो देश को क्या ख़ाक संभालेगी...मेरी नजर में ये सरकार अब तक की सबसे निकम्मी सरकार है सब के सब चोर हैं सा..... अलगाववादियों को तो खड़ा कर के गोली से उदा देना चाहिए..दंगा,,और उपद्रव मचाने वालों को जिस दिन गोली से उडाना शुरू कर देंगे सब कुछ शांत हो जाएगा... अरे इ जो कश्मीर के लाफ्न्गवं है और जौन पाकिस्तान परस्त लोग हैएन इ सरकार के ढिलाई के फायदा उठाय के सब कुछ करत हैएन..अबही क़ानून लागू होई जाए तौ देखा सब कौनो आपन आपन बिली में जाए के छिपी जाए... सब को तो आराम है हम इलाहाबाद में आराम से बैठे हैं,सब नेता अपनी गाड़ियों की एसी में आराम फरमा रहे है..मगर हमारे फ़ोर्स के जवान भाई वहा के लोगों से पत्थर और गोली खा रहे है और कुछ कर भी नहीं सकते..क्या उन्हें सिर्फ मरने के लिए वर्दी पहनाई जाती है की उनको भी कुछ अधिकार है...मुठ्ठीभर लोग इतने दिनों से नरक मचाये हुए है अबही अगर अलगाववाद की बात करने वालों को, उपद्रवियों को देखते ही गोली मारने का आदेश आ जाये,,तो सब कुछ तुरंत ठंडा हो जाएगा मगर जिस देश में "अफजल गुरु" जैसे लोगों की पैरवी हो उस देश का कुछ भी नहीं हो सकता...हम सब लोग जातिगत और svaarthi raajneeti me hi uljhe hue hain... as soon as we are not do anything nothing can solve in this country... I love my country,I love my country's people..... Aakash tiwaary

के द्वारा: Aakash Tiwaari Aakash Tiwaari

श्रद्धेय मिश्रा जी, प्रणाम! आपने उपेंद्र जी की टिप्पणियों के उद्धरण का जहां तक का हिस्सा अपने लेख में लिया है, उसके बाद उनका जवाब और फ़िर बहस दर बहस मेरी उनसे तीन दिन से लगातार चल रही है । अभी-अभी उनके रात वाली बहस का जवाब लिखकर आपके ब्लाँग पर आ रहा हूँ । उनका 'गोली मार भेजे में' यहीं ऊपर 'ज़्यादा चर्चित' में काफ़ी ऊपर आ चुका है । उपेंद्र जी बार बार मानवाधिकार और उनके सामने ज़रूरत से नीचे गिरकर बात किये जाने का प्रस्ताव दे रहे हैं, जिन्हें यदि बात-चीत से समझाया जा सकता, तो शायद आज ये स्थिति ही नहीं होती । आपने बिल्कुल ठीक कहा है, कि सड़न के बाद अंग को काटकर आँपरेशन के अतिरिक्त कोई और उपाय नहीं होता । अब तो शिष्टमंडल भी जाकर हो आया है, देखते हैं कि इसका क्या सकारात्मक परिणाम दिखाई देता है । समीचीन और तथ्यपरक लेख के लिये बधाई ।

के द्वारा:

हमें एक बात और ध्यान रखनी होगी ..की कश्मीर ही वह मुद्दा है जो 1947 से आजतक पकिस्तान के जीवन को थामे है ... संचालित किये हुए है ,, वह सरकारे मिडिया सब कुछ कश्मीर के नाम पर ही बनाते बिगड़ते है ... जैसे बादशाह बन्ने के बाद गजनवी ने कसम ली थी की वह हर साल काफ़िरो पर आक्रमण करेगा वैसे ही पकिस्तान ..में सत्ता के केंद्रीय लक्ष्यों में कश्मीर रहता है ..उसी की आजादी नाम पर वह अपने यहाँ आतंकवादी भरती करता है .एक भ्रमजाल पाकिस्तानी युवाओ के मन में डालता रहता है की उन्हें इस्लामियत के नाम पर कश्मीर में अपने बंदी मुसलमान भाइयो और महिलाओ की इज्जत को बचाना है इसके नाम पर जेहाद का तांडव करने भारत भेजता है ..इसी के भरोसे पकिस्तान का खर्चा चलता है .उसे कर्ज दिए जाते है तो क्या अंतर्राष्ट्रीय संस्थाए नहीं जानती की उन्हें कहा खर्च किया जाता है .. वे जानती है .. लेकिन क्या करे ..सब गन्दा है पर धंधा है ये... की तर्ज पे भारत से शांति की अपील करती है और हम वापस अपने बिलों में घुस जाते है .... यकीं मानिये अगर आज की तारीख में कश्मीर मुद्दा भारत सुलझा ले तो पकिस्तान तबाह हो जायेगा ......क्योकि वैसे भी एक असफल राष्ट्र के रूप में वह कश्मीर के नाम पर ही जिन्दा है ... और कौन नहीं जनता की कश्मीरी मानवाधिकारों की बात करने वाले कश्मीर के अलगाववादी बुद्धिजीवी अपनी खुराक पकिस्तान और आई एस आई से ही पाते है तो वे तो उनकी ही बात करेंगे .... बढ़िया किया आपने एक गंभीर विषय पर लिख कर ...एक बार पुनः धन्यवाद

के द्वारा: NIKHIL PANDEY NIKHIL PANDEY

आदरणीय मिश्र जी , व्यापक अवलोकन और तर्कसंगत तरीके से पोस्ट रखने के लिए धन्यवाद उम्मीद है इससे सभी को समझने में सुविधा होगी.. वर्तमान परिस्थिति में २ चीजे गौर करने लायक है .. कश्मीर मे आम चुनाव हुये और 60 प्रतिशत वोटिंग हुयी थी ,, कबी १ सीट तक सीमित तथाकथित कमुनल भाजपा ११ सीटे जीत गई ,, और कश्मीर शांत था... ये स्पष्ट होने लगा था की घाटी में कुछ सकारात्मक बदलाव होंगे..., दूसरी बात जिसे आपने रेखांकित किया है ......उमर अब्दुला के अनुभवहीन होने का फायदा आज अलगाववादी और पाकिस्तान उठा रहा है । इसके अलावा भारत का मुंबई हमले के लिये पाकिस्तान पर दबाव बढाना और विकीलीक्स रिपोर्ट के तहत पाक सरकार और आर्मी के अलकायदा और अंतराष्ट्रीय आतंकवाद की खेती करने के खुलासे से पाकिस्तान बौखला गया और उसने घाटी में अपने भाड़े के टट्टूओं को बढ़ावा दे दिया ।.... यह वास्तविकता है उम्र अब्दुल्ला का अनुभवहीन और कश्मीरी अवाम से एक दुरी का फायदा अलगाववादी उठा रहे है .. इससे डर कर अगर आज हमने सेना के मनोबल को तोड़ने वाला कोई निर्णय ले लिया तो बहुत खतरनाक sthiti ban jayegi.... नक्सलवाद हो या कश्मीर का मसला ये अगर आज नासूर बने हुए है तो इसकी वजह ये ही है की इन्हें दूर दृष्टि से नहीं देखा गया .. इसे केवल विकास का मसला मान कर एक ही एंगिल से देखा गया .. जबकि हम ये भूल गए की देश के चारो तरफ ऐसी शक्तिया मौजूद है जिनका उद्देश्य ही है भारत को अस्थिर रखना ... बहुत बढ़िया उदाहरण आपने पंजाब का दिया और वास्तव में कश्मीर और नक्सल समस्या पर ऐसी कठोर निर्णय समय रहते लिए जाने चाहिए थे ...अब ये जहर बन कर देश की रगों में दौड़ने लगा है तो हम पगलाए घूम रहे है.. कुछ सूझ नहीं रहा .. लेकिन कश्मीर पर निर्णय भारत की सरकार नहीं १२० करोड़ हिन्दुस्तानी करेंगे ... ये समस्या भावुकता से हल नहीं होगी इसके लिए दृढ संकल्प की जरुरत है .. सरकार का jo निर्णय हो हम सभी का निर्णय तो आपने bata ही दिया है ............ ”कश्मीर भारत का अभिन्न अंग है और हम कश्मीर को भारत से कभी अलग नहीं होने देंगे । मुट्ठीभर अलगाववादियों हम भारत के सवा अरब लोग तुम्हारे खिलाफ खड़े हैं ।“ जय हिंद ।

के द्वारा: NIKHIL PANDEY NIKHIL PANDEY

मिश्र जी, आपने जिस तरह के मदहोश प्रशासन की बात यहाँ की है कमोवेश सारे यू०पी० का हाल ऐसा ही है| शराब की अवैध ठेकियाँ प्रशासन को अतिरिक्त आमदनी और वैध ठेकियाँ मुफ्त नशा उपलभ करवा रही हैं| प्रशासन इनसे पूरी तरह संतुष्ट है और पूरे मनोयोग से इनकी हिफाज़त कर रहा है| अगर किसी बड़े अधिकारी या न्यायाधिकारी की नज़र इस पर पड़ती है तो कभी-कभी वो बुरा मान जाते हैं कि 'बताओ इतनी अवैध और वैध शराब मेरे शहर में बे-रोक टोक बिक रही है और मैं प्यासा मर रहा हूँ!' मुस्तैद प्रशासन तुरंत साहब की सेवा कर उनका भी आशीर्वाद ले लेता है| एक बात मुझे समझ में नहीं आई कि ये दृश्य और हालात आपके कैमरे और लेखनी को दिखी लेकिन खुद को जनता के भलाई के लिए समर्पित कहने वाले अखबारों और मीडिया के लोगों (जिसमे न्याय के लिए आवाज़ उठाने वाला ये मंच भी शामिल है,) को ये सब दिखाई क्यों नहीं दिया कहीं इन अखबारों और मीडिया कर्मियों की सेवा भी तो मनोयोग से नहीं हो रही? नहीं अखबारों और मीडिया के रिपोर्टर गलत नहीं हो सकते चाहे जागरण से पूछ लीजिये| मुझे तो मिश्र जी के ऊपर ही शक हो रहा है| आपको हिस्सा नहीं मिला इसीलिए आपने बेचारे को बदनाम करने की साजिश की है| गलत बात है मिश्र जी, आप किसी अखबार के रिपोर्टर बन जाइए आपको भी हिस्सा मिल जायेगा| यही है- हिन्दुस्तान भेड़िया-धसान!

के द्वारा:

क्या बात है मोहन जी, तो आपने निर्णय ले ही लिया अपना अवतार बदलने का.........अच्छा लगा पढ़कर.... आप तो इस मंच पर व्यंग्य के बादशाह हैं, पर अब पहले जैसा पिटाई करने का माहौल नहीं रहा, सो अब डरिये मत....... आपके मन में अभी भी डर है शायद की कहीं फोटो पहचान कर लोग पिटाई ना कर दे, इसलिए फोटो डर के मारे अपलोड नहीं हो रही है...... यहाँ फोटो अपलोड करने में हर किसी को दिक्कत आती है......मुझे भी ४-५ दिन लग गए थे और मैंने उस खीज में एक व्यंग्य भी लिखा था "मेरा नया अवतार" पढियेगा, मजा आएगा.....तो आप भी कोशिश करते रहिये १-२ नहीं पचासों बार करिए.....और जब आपकी फोटो पसंद आ जाएगी तो किसी दिन अपने आप अपलोड हो जाएगी..... तो लगे रहिये.......हमारी शुभकामनायें....

के द्वारा: aditi kailash aditi kailash

मनोज जी, आपको बुरा लगा इसके लिये क्षमाप्रार्थी हूं । इस प्रक्षेपण का इंतजार मुझको पिछले 18 सालों से था । कल का दिन मेरे लिये भी किसी दुःस्वपन से कम न था । 18 साल पहले अमेरिका ने हमें क्रायोजेनिक इंजन इसलिये नहीं दिया था क्योंकि इस इंजन का इस्तेमाल इंटर कान्टीनेन्टल ब्लास्टिक मिसाईल में भी किया जाता है । उसने हमें सिर्फ यह इंजन नहीं दिया बल्कि रूस को भी हमें यह तकनीकी देने से रोक दिया । कल अगर जीएसएलवी डी -3 का प्रक्षेप्रण सफलता पूर्वक हो जाता तो भारत अपनी पहली इंटर कान्टीनेन्टल ब्लास्टिक मिसाईल (सूर्य- रेंज 5000 किलोमीटर) के परीक्षण की तरफ अपना पहला कदम बढ़ा चुका होता । हम एक साल और पिछड़ गये और संचार उपग्रह जीसेट -4 का नुकसान हुआ सो अलग । यह राष्ट्रीय क्षति है । इसके पहले भी एक बार जी0 एस0 एल0 वी0 का प्रक्षेपण असफल हो गया था लेकिन हम हिम्मत नहीं हारे और रूस से मिले क्रायोजेनिक इंजनों का हमने सफलतापूर्वक प्रक्षेपण किया था । मुझे अपने वैज्ञानिकों पर पूरा भरोसा है और जल्द ही हम दुनिया को दिखा देंगे कि भारत वास्तव में एक महाशक्ति है । अब बात व्यंग्य की । क्यों इस घटना पर व्यंग्य किया ? भाई मैंने अपने गुरू स्व0 शरद जोशी जी का मात्र अनुसरण किया है । बहुत पहले उन्होंने भी ऐसे ही एक असफल अंतरिक्ष अभियान पर व्यंग्य किया था “ प्रतिदिन/शुंई, फुस्स, बिझंुग ” । इसका अर्थ हमारे वैज्ञानिकों की हंसी उड़ाना कदापि नहीं है,था । एक दुर्घटना घटी, हम दुःखी हुये, लेकिन हटाओ इस दुख के पल को, एक मुस्कान लाओ चेहरे पर और दुबारा नई ताकत, ऊर्जा और धैर्य के साथ अपने लक्ष्य पर लग जाओ । गिरते हैं शहसवार ही मैदाने जंग में । वो क्या गिरेंगे जो घुटनों के बल चलते हैं ।

के द्वारा: kmmishra kmmishra




latest from jagran